तेल के बढ़े दाम और अन्य मुद्दों को लेकर 10 सितंबर को कांग्रेस का भारत बंद

तेल के बढ़े दाम और अन्य मुद्दों को लेकर 10 सितंबर को कांग्रेस का भारत बंद

देश भर में पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दल विरोध प्रदर्शन करेंगे।

 

नई दिल्ली: केंद्र सरकार के खिलाफ विपक्ष एक बार फिर हमलावर है। बढ़ती महंगाई, राफेल डील, नोटबंदी समेत कई मुद्दों को लेकर कांग्रेस ने 10 सितंबर को भारत बंद का आह्वान किया है। कांग्रेस की अगुवाई में अन्य विपक्षी दल भी शामिल होंगे। इस सिलसिले में कांग्रेस विपक्षी दलों से मुलाकात कर रही है। भारत बंद के संबंध में कांग्रेस अन्य दलों से बातचीत कर रही है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर एनडीए सरकार पर कई आरोप लगाए। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाते हुए कहा, ''गिरता रुपया महंगा तेल, मोदी जी का भाषण फेल.'' उन्होंने तेल की बढ़ती कीमतों पर केंद्र सरकार पर आरोप लगाए। देश भर में पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दल विरोध प्रदर्शन करेंगे।

ये भी पढ़ें: भारत बंद: सवर्णों को समर्थन देने के मुद्दे पर कांग्रेस भी ऊहापोह में, आंदोलन को खुलकर नहीं दिया समर्थन

सवर्णों का भारत बंद

दरअसल 6 सितंबर को एससी-एसटी एक्‍ट के विरोध में सवर्णों का भारत बंद किाय गया। लेकिन आंदोलन को खुलकर समर्थन देने के लिए एक भी राजनीतिक दल सामने नहीं आया। विपक्षी पार्टी होने के बाद भी कांग्रेस फूंक फूंककर कदम आगे बढ़ा रही है। हालांकि कांग्रेस ने किसी भी समुदाय के साथ अन्‍याय न होने देने की बातें कही हैं। लेकिन पार्टी ने एससी-एसटी आंदोलन की तरह इस आंदोलन का खुलकर समर्थन नहीं किया।

कांग्रेस ने केंद्र को ठहराया जिम्मेदार

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि कुछ हद तक सवर्ण संगठनों की मांग सही है। एससी/एसटी एक्ट का दुरुपयोग होता है। सियासी नफा नुकसान को देखते हुए कोई भी दल इस मुद्दे को नहीं उठाएगी। हालांकि, कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि समाज के हर वर्ग को शांतिपूर्ण तरीके से अपना पक्ष रखने का पूरा अधिकार है। चूंकि बेचैनी का माहौल है और इसके लिए पूरी तरह केंद्र सरकार जिम्मेदार है।

Ad Block is Banned