देश के सभी जिलों में 8 जनवरी को होगा Corona Vaccination का ड्राई रन

HIGHLIGHTS

  • Corona Vaccination In India: केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि आम लोगों तक वैक्सीन पहुंचाने की पूरी प्लानिंग कर ली गई है।
  • हाल ही में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक की वैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल की अनुमति दी गई है।

नई दिल्ली। कोरोना महामारी ( Corona Epidemic ) से जूझ रही दुनिया के लिए राहत की बात है कि कई देशों में वैक्सीनेशन ( Corona Vaccination ) की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। भारत में भी कोरोना से निपटने के लिए दो वैक्सीन को आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है और वैक्सीनेशन के लिए तैयारियां जोरों पर चल रही है।

इन सबके बीच वैक्सीन को लेकर जारी तमाम सियासी लड़ाई के बीच केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि आम लोगों तक वैक्सीन पहुंचाने की पूरी प्लानिंग कर ली गई है। सूत्रों के हवाले से मीडिया रिपोर्ट्स में ये बताया जा रहा है कि 8 जनवरी को देश के सभी जिलों में कोरोनो वैक्सीनेशन का ड्राई रन ( Dry Run ) किया जाएगा।

कोरोना वैक्सीनेशन: सीएम योगी का सख्त निर्देश, कोई कितना भी प्रभावशाली हो, क्रम के अनुसार ही लगेगा टीका

बता दें कि अभी हाल ही में भारत में दो कोरोनो वैक्सीनों के आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिली है। इसमें सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक की वैक्सीन शामिल है।

प्राथमिकता के आधार पर लगेगा टीका

आपको बता दें कि बीते दिनों केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा था कि प्राथमिकता के आधार पर टीका लगाया जाएगा। सबसे पहले डॉक्टरों, स्वास्थ्य वर्करों और फ्रंट लाइन कोरोना वॉरियर्स को टीका लगेगा। इसके बाद बुजुर्गों और फिर अन्य ऐसे लोग जिन्हें इनकी सख्त जरूरत होगी।

पहले फेज में पूरे देश में 30 करोड़ लोगों की टीकाकरण करने का लक्ष्य रखा गया है। अनुमान है कि टीकाकरण के पहले चरण के लिए भारत को 103.11 अरब से 132.57 अरब रुपये तक खर्च करने पड़ सकते हैं। भारत को फ्रंटलाइन वर्कर्स और जोखिम वाले लोगों के टीकाकरण के लिए 60 करोड़ डोज की आवश्यकता होगी।

कोरोना वैक्सीनेशन के ड्राई रन का जायजा लेने पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री, कहा- पहली बार भारत ने बनाई खुद की वैक्सीन, इसे लेकर न हो राजनीति

नेशनल कोविड टास्क फोर्स के हेड डॉ. विनोद पॉल ने कुछ दिनों पहले कहा था कि कोरोना टीकाकरण के लिए सरकार, इंडस्ट्री और अन्य स्टेकहोल्डर्स एक साथ मिलकर एक साथ काम कर रहे हैं। जानकारी के अनुसार, देश में टीकाकरण के लिए 31 बड़े स्टॉक हब होंगे। इन्हीं हबों से सभी राज्यों के 29 हजार वैक्सिनेशन प्वाइंट्स तक वैक्सीन की सप्लाई की जाएगी।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned