Coronavirus: लॉकडाउन के बावजूद मदरसे में 500 छात्राओं को जबरन रखा गया, पुलिस ने उठाया यह कदम

  • कोरोना वायरस ( Coronavirus ) का जारी है कोहराम
  • कोरोना से बचने के लिए भारत में लॉकडाउन ( lockdown )
  • लॉकडाउन के बावजूद पांच सौ छात्राओं को जबरन में मदरसा ( madarsa ) में रखा गया

नई दिल्ली। देश और दुनिया में कोरोना वायरस ( coronavirus ) को लेकर हड़कंप मचा हुआ है। भारत ( India ) में भी इस वायरस का कोहराम जारी है। पांच सौ से ज्यादा लोग इस वायरस के संक्रमण में आ चुके हैं, जबकि 11 लोगों की मौत हो चुकी है। मामले की गंभीरता को देखते हुए मोदी सरकार ( Modi Government ) ने अगामी 14 अप्रैल तक के लिए देश को लॉकडाउन ( Lockdown ) कर दिया है। सभी लोगों को अपने घर के अंदर ही रहने के लिए कहा गया है। लेकिन, इसके बावजूद झारखंड ( Jharkhand ) से एक ऐसा मामला सामने आया है जिसने सनसनी मचा दी है।

झारखंड पुलिस के मुताबिक, लॉकडाउन के बावजूद राजधानी रांची के परहेपाट स्थित एक मदरसे में पांच सौ छात्राओं को जबरन रखा गया। पुलिस का कहना है कि मदरसा के प्राचार्य ने इन छात्राओं को घर नहीं जाने दिया। लेकिन, किसी ने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए सभी छात्राओं को उनके घर भेज दिया। ग्रामीण एसपी का कहना है कि उन्हें सूचना मिली कि मदरसे के छात्रावास में छात्राओं को बंधक बनाकर रखा गया है। उन्हें घर नहीं भेजा जा रहा। सूचना पर जब एएसपी के. विजय शंकर मदरसा पहुंचे तो देखा कि करीब 500 छात्राएं हॉस्टल में मौजूद हैं। इसके बाद अभिभावकों को बुलाकर छात्राओं को उनके हवाले किया गया.

वहीं, इस पूरे मामले पर मदरसा के प्राचार्य अब्दुल अंसारी और सचिव इमरान अंसारी का कहना है कि परीक्षा के चलते छात्राओं को रोककर रखा गया था। पुलिस ने फिलहाल दोनों को हिरासत में ले लिया है और आगे कार्रवाई करने की बात कर रही है। इतना ही नहीं इस पूरे मामले की छानबीन की जा रही है। साथ ही मदरसा के आस-पास सुरक्षा भी बढ़ा दी गई है।

Kaushlendra Pathak Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned