COVID-19: प्रवासी बने 'कोरोना बम', 20 दिन में बिहार में 72 प्रतिशित केस प्रवासियों से बढ़े

  • देश में तेजी से बढ़ रहे हैं coronavirus
  • बिहार ( Bihar ) में प्रवासियों ( Migrant ) के कारण कोरोना संक्रमितों में इजाफा
  • 20 दिन में बिहार में 72 प्रतिशित केस प्रवासियों से बढी

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस ( coronavirus ) के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं। लॉकडाउन ( Lockdown ) के बावजूद कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा सवा लाख के करीब पहुंच चुका है। वहीं, मरने वालों की संख्या तीन हजार के पार पहुंच चुका है। लॉकडाउन ( Lockdown 4.0 ) के कारण प्रवासी ( Migrant ) काफी संख्या में एक राज्य से दूसरे राज्य में पलायन कर रहे हैं। प्रवासी को लेकर बिहार ( Bihar ) से ऐसा आंकड़ा सामने आया है, जिसने सबको चौंका दिया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार में 72 प्रतिशत कोरोना के प्रवासियों के हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार में अब तक 2177 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 11 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, 629 लोग ठीक हो चुके हैं। लेकिन, चौंकाने वाली बात ये है कि इन आंकड़ों में सबसे ज्यादा प्रवासी हैं। बताया जा रहा है कि पिछले 20 दिनों में बिहार में कोरोना के जितने केस आए हैं, उनमें 72 प्रतिशत प्रवासी हैं। 15 मई तक राज्य में कोरोना के एक हजार मामले थे। वहीं, आठ दिनों में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 2166 पहुंच गया है।

आंकड़ों के मुताबिक, तीन मई से लेकर अब तक बिहार में 1,184 प्रवासी मजदूर कोरोना पॉजिटिव ( COVID-19 ) पाए गए हैं। प्रवासियों के इस आंकड़े ने सरकार और प्रशासन दोनों की चिंता बढ़ा दी है। यहां आपको बता दें कि राज्य में 22 मार्च को कोरोना का पहला मामला आया था। शुरुआत में कोरोना की रफ्तार धीमी थी। लेकिन, तीन मई से राज्य में कोरोना ने रफ्तार पकड़ी है और आंकड़ा चौंकाने वाला हो गया है। दिल्ली से लौटे 333 प्रवासी मजदूर कोरोना पॉजिटिव पाए गए है। वहीं, महाराष्ट्र से 293 और गुजरात से लौटे 212 प्रवासी मजदूर कोरोना संक्रमित थे। चर्चा ये भी है कि स्क्रीनिंग में लापरवाही के कारण राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़ा है।

COVID-19
Kaushlendra Pathak Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned