पत्रिका चेक: एक समुदाय विशेष को कोविड-19 के बहाने डिटेंशन केंद्र में रख जा रहा, जानिए दावे की असली सच्चाई?

सोशल मीडिया पर कुछ शरारती तत्वों द्वारा इस तरह से वीडियो तैयार कर वायरल किया जा रहा है, ताकि समाज में भ्रम और भेदभाव का माहौल उत्पन्न हो और अशांति का वातावरण निर्मित हों।

 

नई दिल्ली। इस समय पूरी दुनिया कोरोना वायरस की चपेट में है। दुनियाभर में डेढ लाख लोग इसके शिकार हो चुके हैं। वहीं भारत में इस महामारी से अभी तक 450 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना की चेन तोड़ने के लिए कई देशों में लॉकडाउन लागू है। भारत में लॉकडाउन-2, 3 मई तक लागू है। पुलिस लॉकडाउन को सख्ती से पालन करा रही है। इधर सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल हो रहा है कि एक समुदाय के लोगों को कोविड-19 के बहाने जबरन क्वारंटीन में रखा जा रहा है, जो वास्तव में डिटेंशन केंद्र हैं।

दावा : एक समुदाय के लोगों को #Covid-19 के बहाने जबरन क्वारनटीन में रखा जा रहा जो वास्तव में डिटेंशन केंद्र हैं।

वास्तविकता : ये दावा झूठा है, ऐसी खबरों का उद्देश्य समाज में केवल भेदभाव पैदा करना।

क्या है वायरल मैसेज ?
व्हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर समेत अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल एक वीडियो में दावा किया जा रहा है कि एक समुदाय के लोगों को कोरोना वायरस के बहाने जबरन क्वारनटीन किया जा रहा हैऔर डिटेंशन केंद्र में रखा जा रहा है। दावा किया जा रहा है कि केवल एक ही समुदाय के लोगों को निशाना बनाया जा रहा है।

ये भी पढ़ें: पत्रिका फैक्ट चेक: क्या सचमुच यमुना नदी का पानी स्वच्छ और साफ हो गया, जानिए इसकी सच्चाई?

वायरल मैसेज की क्या है सच्चाई?

पत्रिका फैक्ट चेक टीम ने जब गूगल पर इससे संबंधित की वर्ड्स की पड़ताल की तो मालूम चला कि वायरल वीडियो की सच्चाई से कोई लेना देना नहीं है। सोशल मीडिया पर कुछ शरारती तत्वों द्वारा इस तरह से वीडियो तैयार कर वायरल किया जा रहा है, ताकि समाज में भ्रम और भेदभाव का माहौल उत्पन्न हो और अशांति का वातावरण निर्मित हो। पत्रिका अपने पाठकों और दर्शकों से अपील करता है कि इस तरह के मैसेज पर ध्यान नहीं दें।

PIB ने वीडियो को गलत बताया

वहीं प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो ने भी वायरल वीडियो को गलत करार दिया है। पीआईबी ने बताया कि ये दावा झूठा है, ऐसी खबरों का उद्देश्य समाज में केवल भेदभाव पैदा करना है। PIB ने लोगों से अपील की है कि मनगढंत वीडियो और अफवाहों पर कतई विश्वास ना करें।

coronavirus Coronavirus causes Coronavirus treatment
Show More
Prashant Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned