Coronavirus: कोरोना संकट के बीच मुंबई में नई मुसीबत, सिर्फ 42 दिनों के लिए बचा है पानी?

-कोरोना संकट ( Coronavirus ) से जूझ रही मुंबई ( Mumbai ) को एक नई मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है। -बीएमसी ( BMC ) ने कहा है कि मुंबई के पास अब केवल 42 दिनों का पीने योग्य पानी बचा हुआ है।
-बीएमसी ने यह भी कहा है कि इसको लेकर घबराने की कोई बात नहीं है। बीएमसी ने जानकारी दी कि मुंबई ( Water in Mumbai ) को पीने के पानी की आपूर्ति करने वाले सात झीलों और बांधों में केवल 42 दिनों का पानी बचा हुआ है।

नई दिल्ली।
कोरोना संकट ( coronavirus ) से जूझ रही मुंबई ( Mumbai ) को एक नई मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है। बीएमसी ( BMC ) ने कहा है कि मुंबई के पास अब केवल 42 दिनों का पीने योग्य पानी बचा हुआ है। हालांकि, बीएमसी ने यह भी कहा है कि इसको लेकर घबराने की कोई बात नहीं है। बीएमसी ने जानकारी दी कि मुंबई ( Water in Mumbai ) को पीने के पानी की आपूर्ति करने वाले सात झीलों और बांधों में केवल 42 दिनों का पानी बचा हुआ है। क्योंकि, इन झीलों के जलग्रहण क्षेत्रों में सामान्य बारिश नहीं हुई। यही वजह है कि पानी के भंडार में पिछले 8 दिनों से कोई वृद्धि नहीं हुई।

घबराने की बात नहीं
वहीं, बीएमसी का कहना है कि घबराने की कोई बात नहीं है। मौसम विभाग ( IMD Forecast ) ने इस बार मानसून ( Monsoon 2020 ) की अच्छी बारिश के संकेत दिए है। जिसके चलते जलस्तर फिर से बढ़ेगा और पानी उपलब्‍ध होने लगेगा। उन्होंने बताया कि वर्तमान जल स्टॉक कुल स्टॉक का केवल 10.68% है। रविवार तक जो रिपोर्ट है, उसके मुताबिक सातों झीलों में जल भंडार 1.54 लाख लीटर है। जबकि, इनके कुल भंडारण क्षमता 14.47 लाख लीटर है।

कौनसी है सात झीले
बता दें कि ऊपरी वैतरणा, मध्य वैतरणा, मोदक सागर, तानसा, भटसा, विहार और तुलसी में पिछले साल एक समय 82,829 लीटर पानी (5.72%) था। इस बार पिछले साल के मुकाबले 13.09% से कम है। अधिकारियों का कहना है कि पानी की कटौती को लेकर अभी कोई निर्णय नहीं लिया है।

मानसून से उम्मीद
अतिरिक्त नगर आयुक्त (हाइड्रोलिक विभाग) पी वेलरासु ने कहा, "इस साल अच्छे मानसून की उम्मीद है। जिससे पानी की किल्लत पूरी हो सकेगी।

Weather forecast coronavirus
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned