Coronavirus: अभी कम्यूनिटी ट्रांसमिशन की स्थिति में नहीं है भारत, 24 घंटे में 693 नए केस आए सामने

  • 4068 पॉजिटिव केस में अकेले तबलीगी जमात से जुड़े 1445 केस।
  • जमात से संबंधित 25500 लोगों को क्वारेंटाइन किया जा चुका है।
  • करीब आधे पॉजिटिव केस वाले व्यक्तियों की उम्र 40 वर्ष या इससे कम।

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस के पॉजिटिव केस तेजी से बढ़ रहे हैं। सोमवार को देश में कोरोना ने 4000 का आंकड़ा पार कर लिया, जबकि बीते 24 घंटे के भीतर 693 नए केस सामने आए। हालांकि इन सबके बीच अच्छी बात यह है कि भारत में अभी कोरोना वायरस कम्यूनिटी ट्रांसमिशन की स्थिति में नहीं आया है। यानी खतरा अभी अपेक्षाकृत नियंत्रण में है।

BIG NEWS: RSS का तबलीगी जमात पर बड़ा हमला

तबलीगी जमात बड़ी वजह

सोमवार को केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की गई सूचना के मुताबिक बीते 24 घंटे में देश में COVID-19 पॉजिटिव 693 नए केस सामने आए हैं। देश में अब तक कोरोना पॉजिटिव केस की संख्या 4068 पहुंच चुकी है। हैरानी वाली बात है कि इनमें से अकेले 1445 पॉजिटिव केस केवल तबलीगी जमात से जुड़े लोगों में देखने को मिले हैं। तब्लीगी जमात से संबंधित 25,500 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया है।

आधे मरने वाले 40 वर्ष से नीचेे

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा दी गई गई जानकारी में यह भी बताया गया कि कोरोना पॉजिटिव केस में पुरुषों का आंकड़ा 76 फीसदी और महिलाओं का 24 फीसदी है। वहीं, पीड़ितों में 47 फीसदी यानी तकरीबन आधे मरीजों की उम्र 40 वर्ष से कम है। जबकि 34 फीसदी मरीज ऐसे हैं जिनकी आयु 40 से 60 वर्ष के बीच है। 60 वर्ष या इससे ज्यादा आयु के अब तक 19 फीसदी पॉजिटिव केस ही सामने आए हैं।

अगर बात करें कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों की तो इनमें 63 फीसदी लोगों की उम्र 60 वर्ष या इससे ज्यादा थी। अब तक देश में कुल 109 लोगों की जान इस महामारी से जा चुकी है। इनमें 86 फीसदी वो लोग मारे गए हैं, जिनको पहले से कोई बीमारी थी।

कम्यूनिटी ट्रांसमिशन नहीं

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव और कोरोना पर भारत सरकार के प्रवक्ता लव अग्रवाल ने कहा, "अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के डायरेक्टर गुलेरिया ने एक चैनल को दिए इंटरव्यू में जो कहा है और उसे जिस तरह पेश किया जा रहा है वह ऐसा नहीं है जो हम कह रहे हैं। हम हर बार कहते हैं कि कम्यूनिटी ट्रांसमिशन की स्थिति होगी तो हम आपको बताएंगे। उन्होंने जिन शब्दों का उपयोग किया है वह है लोकलाइज्ड कम्यूनिटी ट्रांसमिशन।"

Coronavirus के खिलाफ 5 मिनट की ताली-थाली के बाद 9 मिनट की दिवाली ने दिखाई देश की एकजुटता

ICMR ने कहा टेस्ट की चिंता नहीं

इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के प्रवक्ता आरआर गंगाखेड़कर ने सोमवार को कहा कि इस समय हमारी लैब की क्षमता 13 हजार प्रति दिन है। अगर दो शिफ्ट में काम किया जाए तो इनमें 25 हजार नमूनों की जांच रोजाना की जा सकती है। अगर सभी संसाधनों का इस्तेमाल किया जाए तो टेस्ट की चिंता नहीं रह जाएगी।

हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का बिना सलाह उपयोग न करें

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा सिर्फ लैब कंफर्म मरीजों और उनके संपर्क में आए लोगों व स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को बचाव के उपाय के तौर पर दी जा रही है। उपचार के लिए इसके प्रभाव का अध्ययन अभी बहुत सीमित है। साथ ही इसके साइड इफेक्ट भी हैं। इसलिए जिनको सलाह नहीं दी गई है, वे इसका उपयोग नहीं करें।

Coronavirus symptoms कोरोना वायरस
Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned