कोरोना का खतराः भारत में 40% लोग शौचालय के बाद नहीं धोते हाथ, अध्ययन में चौंकाने वाला दावा

  • यूनिवर्सिटी ऑफ बरमिंघम के शोध में ये दावा
  • दुनिया के कई देशों में नहीं टॉयलेट के बाद हाथ धोने की संस्कृति
  • 10 देश में 8वें नंबर पर भारत, पहले नंबर पर जापान

नई दिल्ली। जानलेवा कोरोना वायरस अब तक हजारों लोगों की जान ले चूका हैं। संक्रमण से जूझ रहे देश बचाव के उपायों को ढूंढने में लगे हैं। अब तक इस महामारी के चलते 21000 लोग मारे जा चुके हैं और पांच लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं।

ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ बरमिंघम के शोध में ये दावा किया गया है कि जिन देशों के लोगों को हाथ धोने की आदत नहीं होती है, वे स्वतः कोरोनोवायरस के संपर्क में ज्यादा होते हैं।

जोर से हंसने पर बढ़ जाता है कोरोना का खतरा, जानिए क्या है पूरा मामला

बीवीए फ्रांस सरल की ओर से 2015 में जारी किए गए हाथ-धोने की आदतों के डेटा का उपयोग करके वर्ल्डवाइड इंडिपेंडेंट नेटवर्क ऑफ मार्केट रिसर्च और गैलप इंटरनेशनल के सहयोग से एक अध्ययन किया गया।

यहां 63 देशों को शामिल किया गया है, जिसमें हर देश से कम से कम 500 उत्तरदाता और कुल मिलाकर 6 लाख 40 हजार 02 लोग शामिल हैं ।

d30ce82c-3d08-4f2f-98f5-f7b9a68ba688.jpg
इन देशों में नहीं हाथ धोने की संस्कृति
देश प्रतिशत
चीन 77
जापान 70
दक्षिण कोरिया 61
नीदरलैंड 50
थाईलैंड 48
केन्या 48
इटली 43
भारत 40
यूके 25
यूएस 23
बर्मिंघम विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के मुताबिक

शौचालय का उपयोग करने के बाद कम से कम 50% लोगों को स्वचालित हैंडवाशिंग की आदत नहीं है।

हाथ धोने में सबसे अच्छा स्तर इस देश का
शोध में पाया गया कि शौचालय के प्रयोग के बाद हाथ धोने के मामले में सऊदी अरब के लोगों की आदत सबसे अच्छी है। यहां महज तीन फीसदी लोग ही हाथ नहीं धोते। इसके अलावा, बोस्निया, अल्जेरिया, लेबनान और पापुआ न्यू गुइनिया भी शामिल हैं।

21 दिन के लॉकडाउन के बीच रेलवे ने भी उठाया बड़ा कदम, 14 अप्रैल तक बंद रहेंगी सभी ट्रेनें

कोविड 19 वायर से बचाव के तहत बार बार साबुन से कम से कम 20 सेकंड तक हाथ धोने की सलाह दी जाती है। छोटी अवधि में व्यक्तिगत स्वच्छता व्यवहार को जल्दी से प्रभावित करना संभव है, लेकिन किसी विशेष देश में या विश्व स्तर पर हाथ धौने की संस्कृति को बदलना अधिक कठिन काम है।

बर्मिंघम लॉ स्कूल के डॉ एलेक्स खारलामोव के मुताबिक 'समय बताएगा कि क्या कोविद -19 की चुनौतियां दुनिया भर में हैंडवाशिंग संस्कृति को और अधिक एकीकृत बनाने में मदद करेंगी।'

Corona virus
Show More
धीरज शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned