scriptCoronavirus: When will COVID-19 epidemic reach highest in India | Coronavirus: भारत में कब चरम पर पहुंचेगी यह महामारी? | Patrika News

Coronavirus: भारत में कब चरम पर पहुंचेगी यह महामारी?

  • चीन में इस वायरस संक्रमण की दूसरी लहर शुरू होने वाली है।
  • भारत में व्यापक स्तर पर निगरानी किए जाने की है जरूरत।
  • अभी भारत में अपने चरम पर नहीं पहुंचा है कोरोना वायरस।

नई दिल्ली

Updated: March 20, 2020 05:39:49 pm

नई दिल्ली। चीन के बाद भारत में कोरोना महामारी पैर पसारती जा रही है, लेकिन यह अपने चरम पर कब पहुंचेगी यह बड़ा सवाल है। करीब ढाई माह के वक्त में पहली बार गुरुवार को यह रिपोर्ट जारी की गई बीते दिन देश में कोई भी स्थानीय संक्रमण (लोकल इंफेक्शन) नहीं पाया गया।
india coronavirus outbreak
India coronavirus outbreak
कोरोनावायरस को लेकर सामने आई सबसे बड़ी जानकारी, साबुन-हैंड सैनेटाइजर के इस्तेमाल पर खुलासा

संभवता यह इस बात की ओर इशारा है कि चीन में यह महामारी अपने चरम पर पहुंच चुकी है। यह भी तय माना जा रहा है कि चीन में इस वायरस की दूसरी लहर का खतरा मंडरा रहा है क्योंकि वहां की सरकार ने इसके प्रकोप को रोकने के लिए लगाए गए प्रतिबंधों में अब ढील देनी शुरू कर दी है और लोग धीरे-धीरे वापस सामान्य जीवन पर लौटने लगे हैं।
भारत सरकार के मुताबिक देश में कोरोना वायरस महामारी अपने स्थानीय संक्रमण काल (लोकल ट्रांसमिशन फेज) में है। यह देश में बीमारी उन लोगों में देखने को मिली है जो या तो विदेश घूमकर भारत लौटे हिंदुस्तानियों या फिर संक्रमित विदेशी नागरिकों के संपर्क में रहे हैं।
कोरोना वायरसअभी तक भारत में सामुदायिक संक्रमण (कम्यूनिटी ट्रांसमिशन) नहीं फैला है और उम्मीद है कि अगले दो सप्ताह में कोरोना वायरस का संक्रमण चरम पर पहुंच जाएगा और फिर धीरे-धीरे कम होना शुरू होगा। फिर भी यह एक स्थानीय वायरस के रूप में लंबे वक्त तक रहेगा, जो भविष्य में पुनर्जीवित होकर स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली (हेल्थ केयर सिस्टम) को चुनौती दे सकता है। भारत को लंबी लड़ाई का सामना करने के लिए तैयार होना है, इसकी उम्मीद कम है।
भारत में सरकारी कर्मचारियों पर 'महामारी एक्ट' के तहत पहला केस दर्ज, एक नहीं सैकड़ों के खिलाफ FIR

अब बात करते हैं चीन में कोरोना वायरस के चरम पर पहुंचने की तो इस पर वैज्ञानिकों में मतभेद है। वर्ष 2019 के अंत में चीन के वुहान शहर से इस वायरस की शुरुआत हुई। अच्छी बात यह है कि चीन में संक्रमण पहले ही अपने चरम पर पहुंच गया, जबकि बुरी बात यह है कि इस वायरस के चलते दुनिया के सर्वाधिक आबादी वाले देश में मई में 55-60 करोड़ लोग प्रभावित हो जाएंगे।
साइंस जर्नल नेचर में छपी डेविड सारैनॉस्की की विस्तृत रिपोर्ट में, कोरोना वायरस को लेकर गठित एक समिति का नेतृत्व करने वाले चीन के एक चिकित्सक झोंग नैंशन ने 11 फरवरी को कहा कि चीन में कोरोना वायरस फरवरी के अंत तक चरम पर पहुंचेगा।
कोरोना वायरस से बचाव के तरीकेसेवियर एक्यूट रिस्पेरेटरी सिंड्रोम (SARS) की वजह बने वायरस की खोज करने वाले झोंग ने कहा कि चीन में यात्रा प्रतिबंध लगाने की वजह से हालात सुधरे, लेकिन अन्य शोध बताते हैं कि जैसे ही इन प्रतिबंधों को हटाया जाएगा, संक्रमण बढ़ सकता है।
कोरोना वायरस से लड़ने वाली दवा बताकर मिट्टी बेच रहा दुकानदार, पोस्टर छपवाकर कर रहा प्रचार

जापान के सप्पोरो में होक्काइडो यूनिवर्सिटी के एक महामारी विज्ञानी हिरोशी निशिउरा के मुताबिक, चीनी शहरों में लोगों ने पिछले हफ्ते से काम पर लौटना शुरू कर दिया, जो नए संक्रमण की वजह बन सकता है। उन्होंने कहा कि मार्च और मई के अंत तक संक्रमण चरम पर हो सकता है, और अनुमान लगाया गया कि चीन में 55 से 65 करोड़ लोगों के संक्रमित होने का खतरा है, जो देश की आबादी का लगभग 40 फीसदी है।
महामारी विज्ञानियों को डर है कि भारत में कुछ स्थानों कोरोना वायरस रस के मामले सामने आए और फिर ये पूरे देश में फैलते गए।

कोरोना वायरस इस संबंध में भारतीय विज्ञान संस्थान में भारतीय संक्रामक रोग अनुसंधान केंद्र के एसोसिएट प्रोफेसर अमित सिंह कहते हैं, "हमारे पास केवल चीन, इटली, स्पेन और जर्मनी के आंकड़े हैं। शुरुआत में इन देशों में संक्रमण का प्रसार धीमा था। ऐसे मामलों में थोड़ी वृद्धि हुई जब संक्रमित यात्री स्थानीय लोगों के संपर्क में आए। इटली में एक पखवाड़े के भीतर यह मामले कई गुणा बढ़कर सैकड़ों से कई हजारों में पहुंच गए। यह स्थानीय से सामुदायिक प्रसारण की वजह से हुआ था। भारत में सामुदायिक प्रसारण है या नहीं, अभी तक इसका कोई सबूत नहीं है।”
Coronavirus को लेकर पीएम मोदी की बड़ी घोषणा, 1 लाख रुपये का इनाम देने का ऐलान

"हमें यह समझने के लिए निगरानी मोड में जाना होगा। दक्षिण कोरिया में उन्होंने समुदाय में जाकर व्यापक परीक्षण किया। लेकिन क्या हमारे पास अभी ऐसा करने के लिए पर्याप्त परीक्षण किट हैं? क्या हमारे पास ऐसे बड़े पैमाने पर परीक्षण करने के लिए अभिकर्मक (reagents) हैं। हमारे देश की आबादी सघन है और कई ऐसे तबके हैं जिनमें लोग एक-दूसरे के बहुत ज्यादा करीब रहते हैं। यह अनियंत्रित हो, इससे पहले हमें इसे नियंत्रित करने के लिए आक्रामक रूप से तैयार होना होगा।"
newsletter

अमित कुमार बाजपेयी

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

IPL 2022: टिम डेविड की तूफानी पारी, मुंबई ने दिल्ली को 5 विकेट से हराया, RCB प्लेऑफ मेंपेट्रोल-डीज़ल होगा सस्ता, गैस सिलेंडर पर भी मिलेगी सब्सिडी, केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलान'हमारे लिए हमेशा लोग पहले होते हैं', पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती पर पीएम मोदीArchery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसऑस्ट्रेलिया के चुनावों में प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन हारे, एंथनी अल्बनीज होंगे नए PM, जानें कौन हैं येगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दजापान में होगा तीसरा क्वाड समिट, 23-24 मई को PM मोदी का जापान दौरा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.