scriptCoronavirus: Why COVID-19 positive cases increasing in India | Coronavirus: भारत में क्यों बढ़ रहे हैं COVID-19 के पॉजिटिव केस | Patrika News

Coronavirus: भारत में क्यों बढ़ रहे हैं COVID-19 के पॉजिटिव केस

  • पिछले माह आईसीएमआर ने पेश की थी मैथमेटिकल मॉडलिंग।
  • रोकथाम और कमी लाने के दो विचार पेश किए गए थे।
  • बिना लक्षणों वाले रोगियों की पहचान करने में चुनौती भी बताई थी।

नई दिल्ली

Updated: March 25, 2020 06:00:45 pm

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार से पूरे देश में 21 दिनों के लिए टोटल लॉकडाउन की घोषणा कर दी है। पिछले करीब एक माह से सरकार द्वारा उठाए जा रहे तमाम कदमों के बीच देश में रोजाना कोरोना पॉजिटिव केस बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में यह बड़ा सवाल उठना लाजमी है कि क्यों देश में कोरोना अपने पैर पसारता जा रहा है।
Coronavirus outbreak in India
Coronavirus outbreak in India
BIG NEWS: कोरोना वायरस पर वैज्ञानिकों का बड़ा खुलासा, बताया- भारत में कब चरम पर पहुंचेगी यह महामारी?

इसे लेकर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने सोमवार को इस वायरस के फैलने के विभिन्न परिदृश्यों को रेखांकित करते हुए अपने गणितीय मॉडलिंग को सार्वजनिक किया। भारत द्वारा लॉकडाउन जैसे कड़े कदम उठाने से पहले ICMR की यह इन-हाउस मॉडलिंग पिछले महीने की गई थी। इसमें चीन से वायरस आने पर विचार किया गया, क्योंकि उस वक्त यूरोप या पश्चिम एशिया इससे त्रस्त नहीं थे, हालांकि अब इन देशों में भी वायरस अपने पैर पसार चुका है।
पेपर के मुताबिक, इस मॉडलिंग में दो क्रियाओं पर विचार किया गया है। 1. रोकथाम ताकि वायरस को आने से रोकने के लिए प्वाइंट-ऑफ-एंट्री (हवाई अड्डों) पर स्क्रीनिंग। 2. कमी लाना ताकि स्क्रीनिंग के दौरान कोई भी मामला छूटने पर भारत के भीतर इसे फैलने से निपटना जाए। कमी लाने के लिए, इस मॉडलिंग में केवल दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और बेंगलुरु के चार मेट्रो सिटी पर विचार किया गया, "क्योंकि इन शहरों से देश में शुरुआती COVID-19 फैलने के प्रमुख केंद्र बनने की संभावना थी।"
Big News: Coronavirus को लेकर पीएम मोदी की बड़ी घोषणा, 1 लाख रुपये का इनाम देने का ऐलान

रोकथाम पर निष्कर्षः इसमें बताया गया कि स्क्रीनिंग से जिन लोगों में बुखार जैसे लक्षण दिखेते हैं, केवल उन्हें ही थर्मल स्कैनर से पहचाना जा सकता है। "हालांकि देश के भीतर इस वायरस को बड़ी संख्या में फैलने से रोकने के लिए कम से कम उन 75 फीसदी लोगों की भी पहचान करनी जरूरी है, जिनमें इसके लक्षण नहीं नजर आ रहे हैं।"
इसके अलावा, "इस बीमारी के लक्षण ना दिखाई देने वाले 90 फीसदी लोगों का अतिरिक्त पता लगाने से महामारी के फैलने में 20 दिनों तक औसत समय की देरी होगी।" पर व्यापक रूप से बिना लक्षण वाले मामलों की स्क्रीनिंग "व्यावहारिक रूप से अव्यवहारिक" है। अभी तक बिना लक्षणों वाले व्यक्तियों में उचित जांच के लिए COVID-19 का कोई सटीक और तेज परीक्षण नहीं है।
newsletter

अमित कुमार बाजपेयी

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालजैक कैलिस ने चुनी इतिहास की सर्वश्रेष्ठ ऑलटाइम XI, 3 भारतीय खिलाड़ियों को दी जगहदुल्हन के लिबाज के साथ इलियाना डिक्रूज ने पहनी ऐसी चीज, जिसे देख सब हो गए हैरानकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेश

बड़ी खबरें

झारखंड में नक्सलियों ने ब्लास्ट कर उड़ाया रेलवे ट्रैक, रेलवे ने राजधानी एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनों का रूट बदलायूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारRepublic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवाजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 7,498 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 10.59%डायबिटीज के पेशेंट्स के लिए फायदेमंद हैं ये सब्जियां, रोजाना करें इनका सेवनक्या दुर्घटना होने पर Self-driving Car जाएगी जेल या ड्राइवर को किया जाएगा Blame? कौन होगा जिम्मेदार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.