कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, अब 24 हफ्ते में भी महिला करवा सकती है गर्भपात

कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, अब 24 हफ्ते में भी महिला करवा सकती है गर्भपात

Kaushlendra Pathak | Publish: Jan, 14 2019 07:35:44 PM (IST) | Updated: Jan, 14 2019 07:35:45 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

कोलकात हाईकोर्ट ने गर्भपात को लेकर ऐतिहासिक फैसला सुनाया है।

नई दिल्ली। कोलकाता हाई कोर्ट ने सोमवार को बड़ा ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। कोर्ट ने कहा है कि अब 24 हफ्ते में भी महिला गर्भवती महिला गर्भपात करवा सकती है। कोर्ट ने यह फैसला एक महिला की ओर से दायर याचिका पर सुनाई है।

कोर्ट ने सुनाया ऐतिहासिक फैसला

याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति तपव्रत चक्रवर्ती ने कहा कि एसएसकेएम अस्पताल के प्रसूति विभाग के डॉ. पीएस चक्रवर्ती की देखरेख में गर्भपात कराना होगा। इससे पहले कोर्ट ने महिला को जांच के लिए मेडिकल बोर्ड के समक्ष पेश होने का निर्देश दिया था। कोर्ट ने कहा था कि जांच के बाद ही गर्भपात की अनुमति मिलेगी। सोमवार को जांच की रिपोर्ट आई, उसी रिपोर्ट के आधार पर कोर्ट ने गर्भपात की अनुमति दी। गौरतलब है कि दक्षिण कोलकाता के एक दंपती ने गर्भपात के लिए कोलकत्ता हाई कोर्ट में अर्जी लगाई थी।

20 हफ्ते तक की है अनुमति

जानकारी के मुताबिक, महिला 24 हफ्ते की गर्भवती है। मेडिकल चेकअप के दौरान पता चला की उसकी कोख में पल रहा भ्रूण पूरी तरह विकसित नहीं हुआ है। भ्रूण के मस्तिष्क का पूर्ण रूप से विकास नहीं हुआ है। दंपती का कहना है कि डॉक्टरों ने बताया है कि किसी भी सूरत में बच्चे को बचाना मुमकिन नहीं है। अगर मां, बच्चे को जन्म देना चाहती है तो उसकी जान भी जा सकती है। इसलिए, महिला ने गर्भपात कराने के लिए कोर्ट में अर्जी लगाई थी। गौरतलब है कि भारतीय कानून के अनुसार गर्भपात का समय सीमा 20 सप्ताह तक तय की गई है। इस समय के बाद भ्रूण को नष्ट करना कानूनी अपराध की श्रेणी में आता है।

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned