रक्षा राजनाथ सिंह ने जताई चिंता, बोले- कोरोना काल में घटा रक्षा उत्पादन

  • Defence Minister Rajnath Singh का बड़ा बयान
  • Coronavirus के चलते Defence Production पर पड़ा असर

नई दिल्ली। पूरा देश इस वक्त कोरोना वायरस ( coronavirus ) जैसी महामारी से जूझ रहा है। देशभर में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 1 लाख 18 हजार के पार पहुंच चुकी है। वहीं 3500 से ज्यादा लोग इस घातक वायरस की वजह से अपनी जान गंवा चुके हैं। कोरोना का बुरा असर हर क्षेत्र पर पड़ा है। फिर चाहे वो नौकरी पेशा हों, कारोबारी हों या फिर अन्य हर क्षेत्र में कोरोना की मार पड़ी है। इसी कड़ी में देश का रक्षा उत्पादन भी अछूता नहीं है।

रक्षा मंत्री ( Defence Minister ) राजनाथ सिंह ( Rajnath Singh ) ने कहा है कि कोविड-19 ( Covid-19 ) महामारी की वजह से भारत के रक्षा उत्पादन पर इसका प्रतिकूल असर पड़ा है।

लॉकडाउन-4 में नाइट कर्फ्यू को लेकर सख्त हुई केंद्र सरकार, जानिए क्या उठाया कदम

लॉकडाउन-4 के बीच बिना मास्क के घर से निकले लोग, पुलिस ने वूसला 59,800 का जुर्माना

रक्षा मंत्री ने कोरोना महामारी के खिलाफ राष्ट्र की लड़ाई में छोटे और लघु उद्योगों ( MSME ) की भूमिका की सराहना की। सिंह ने कहा कि SIDM ने रक्षा शोध संगठन DRDO की ओर से डिजाइन पर्सनल प्रोटेक्शन इकिवपमेंट के किट, मास्क , आदि का तेजी से निर्माण किया है।

कोरोना से कठिनाई में रक्षा उद्योग
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कोरोना महमारी का सीधा असर रक्षा उद्योग पर पड़ा है। रक्षा उत्पादन क्षेत्र भी कठिनाई के दौर से गुजर रहा है। रक्षा मंत्री ने कहा कि लॉकडाउन की वजह से देश के निर्माण क्षेत्र को सर्वाधिक नुकसान हुआ है।

इससे रक्षा क्षेत्र की सप्लाई चेन पर असर पड़ा है। उन्होंने कहा कि रक्षा उद्योंगों के उत्पादों की एकमात्र खरीदार सरकार है।

पड़ोसी देशों की मदद करने में सक्षम
रक्षा मंत्री ने कहा कि पिछले दो महीने के भीतर न केवल हम इन उत्पादों के मामले में आत्मनिर्भर हुए बल्कि बल्कि हम अपनी पड़ोसी देशों की मदद करने की भी सोच सकते हैं।

सिंह ने कहा कि छोटे एवं लघु उद्योग भारतीय अर्थव्वयवस्था की रीढ़ बन चुके हैं औऱ इनकी वजह से भारत के सकल घरेलू उत्पाद में तेजी आती है इसलिये इनके विकास पर ध्यान देना सरकार की प्राथमिकताओं में से है।

रक्षा मंत्रालय के तहत आयुध कारखानों, सार्वजनिक उपक्रमों आदि से 8000 से ज्यादा छोटे एवं मझले उद्योग जुडे हैं। ये इन संगठनों के उत्पादन का 20 फीसदी योगदान करते हैं।

coronavirus
Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned