सीलिंग के खिलाफ आज दिल्ली बंद, केजरीवाल की सर्वदलीय बैठक में शामिल नहीं होगी BJP

राजधानी में सीलिंग के विरोध के चलते आज कारोबारी पूरा दिन बाजार बंद रखेंगे।

नई दिल्ली। राजधानी में सीलिंग के विरोध के चलते आज कारोबारी पूरा दिन बाजार बंद रखेंगे। कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के बैनर तले ढाई हजार से अधिक व्यापारिक संगठनों से जुड़े सात लाख से अधिक कारोबारियों ने सीलिंग के विरोध में कारोबार बंद रखने की घोषणा की है। वहीं, सीलिंग मुद्दे पर सीएम केजरीवाल की ओर से बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में बीजेपी ने शामिल होने से इनकार कर दिया है। बीजेपी के दिल्ली प्रदेश के महासचिव रवीन्द्र गुप्ता की ओर से आए बयान में कहा गया है कि पार्टी सर्वदलीय बैठक में शामिल नहीं होगी। उन्होंने इसके पीछे बीजेपी प्रतिनिधिमंडल के साथ हुए दुर्व्यवहार को कारण बताया।

निकाली जाएगी सीलिंग की शवयात्रा

दिल्ली में 100 से अधिक मार्केट में विरोध प्रदर्शन के दौरान सीलिंग की शवयात्रा निकाली जाएगी। चैंबर ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री (सीटीआइ) के संयोजक बृजेश गोयल ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि यह शव यात्रा शवयात्रा कश्मीरी गेट से शुरू होकर निगम बोध घाट तक निकलेगी। इसमें बड़ी तदाद में व्यापारी भाग लेंगे। निगम बोध घाट पहुंचने के बाद सीलिंग के शव का अंतिम संस्कार किया जाएगा। प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि उन्होंने केन्द्र के सामने मांग रखी है कि संसद के चालू सत्र में सीलिंग को लेकर विधयेक पारित किया जाए, वहीं दूसरी ओर दिल्ली की सरकार से भी 16 मार्च से शुरू हो रहे विधानसभा सत्र में विधेयक मंजूरी के लिए केन्द्र को भेजने की मांग की है।

दिल्ली में सीलिंग रोकने के लिए विधेयक पेश

आम आदमी पार्टी (आप) के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा कि उन्होंने दिल्ली में सीलिंग रोकने के लिए सोमवार को एक निजी सदस्य विधेयक पेश किया है। सिंह ने मीडिया को बताया कि मैंने एक निजी सदस्य विधेयक पेश किया है। आजादी के बाद से सिर्फ 14 निजी विधेयकों को अभी तक स्वीकार किया गया है। उन्होंने राजधानी में सीलिंग रोकने के लिए सभी राजनीतिक दलों से एकजुट होने का आग्रह किया। सिंह ने कहा कि सीलिंग से व्यापारियों और उनके परिजनों को काफी परेशानी उठानी पड़ी। उन्होंने आरोप लगाया कि सीलिंग के नाम पर व्यापारियों को पीटा जा रहा है। सांसद ने कहा ने आप शुरू से यही कह रही है कि संसद सत्र नहीं चलने की स्थिति में विधेयक या एक अध्यादेश से ही सीलिंग रोकी जा सकती है।

Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned