दिल्ली: डॉक्टरों ने चलाया 'यमुना सफाई अभियान', हर शनिवार करते हैं घाटों की सफाई

इस अभियान की नींव तीन साल पहले मौलाना आजाद के 13 डॉक्टर, वैज्ञानिक और पैरामेडिकल स्टाफ ने मिलकर रखी थी।

नई दिल्ली। दिल्ली में यमुना नदी अपना अस्तित्व खोने के कगार पर है। यमुना का पानी दिन पर दिन सूखता जा रहा है और उसी तरह उसे प्रदूषित भी किया जा रहा है। लोगों द्वार फेंका कचरा यमुना में हर दिन समाता है। लाख जगरूकता के बाद भी यमुना के पास साफ-सफाई देखने को नहीं मिलती। लेकिन अब यमुना को खत्म होने से बचाने का बीड़ा दिल्ली कुछ डॉक्टरों ने उठाया है।

यह भी पढ़ें-विश्व हिन्दू परिषद का बड़ा ऐलान, मंदिर निर्माण पर अध्यादेश की मांग का प्रस्ताव हो सकता है पास

अपने अति व्यस्त समय में से हर शनिवार तीन घंटे निकाल कर दिल्ली के कुछ डॉक्टर यमुना के घाट को सवारने में लग जात हैं। बता दें कि इन डॉक्टरों की ये कोशिश लगभग तीन सालों से जारी है। 'स्वच्छ यमुना अभियान' के नाम से शुरू इस अभियान की नींव तीन साल पहले मौलाना आजाद के 13 डॉक्टर, वैज्ञानिक और पैरामेडिकल स्टाफ ने मिलकर रखी थी, जो अब एक बड़ा अभियान बन गया है।

yamuna

हर शनिवार को करते हैं यमुना की सफाई

अभियान के प्रमुख सदस्य डॉ. विवेक दीक्षित के मुताबिक यमुना सफाई अभियान से जुडे लोग हर शनिवार को सचिवालय के सामने स्थित छठ घाट पर आते हैं और यहां मौजूद गंदगी को साफ करते हैं। इसे साफ करने के पीछे की उनकी मंशा बस इतनी है कि यमुना के 80 मीटर के इस घाट को वे साफ कर सके। ताकि लोग यमुना को उसी तरह देखने आए जैसे वह दिल्ली के अन्य ऐतिहासिक स्थलों को देखने जाते हैं।

एमसीडी भी दे रहा है साथ

डॉ. विवेक दीक्षित ने बताया कि इस अभियान की शुरुआत में वो लोग दिल्ली पुलिस को भी इसकी जानकारी देते थे कि वह घाट की सफाई करने आ रहे हैं। इसके लिए वह अनुमति भी लेते थे। हालांकि अभिायन की शुरुआत में उन्हें सहयोग नहीं मिला, लेकिन पिछले एक साल से लगातार कूड़ा उठाने के लिए टिपर और गाड़ियां शनिवार को आती हैं।

जागरूकता के लिए बनाई डॉक्युमेंट्री

आपको बता दें कि दिल्ली के ये डॉक्टर सिर्फ घाट पर जाकर ही सफाई कर लोगों को जागरूक नहीं करते। इन डॉक्टरों ने मिलकर एक जागरूकता डॉक्युमेंट्री भी बनाई है। इस डॉक्युमेंट्री में यमुना की सफा-सफाई और नदी की दशा के बारे में बताया गया है। साथ ही लोगों को सफाई के प्रति जागरूक भी किया गया है।

yamuna

अभियान में शामिल दिल्ली के ये डॉक्टर

डॉ दीक्षित बताते हैं कि यह न तो कोई संस्था है न ही कोई गैर सरकारी सहायता प्राप्त एनजीओ है। यह केवल एक स्वैच्छिक आंदोलन है जिसका उद्देश्य मां यमुना को कचरा मुक्त बनाना है। इस अभियान में दिल्ली के लगभग सभी मेडिकल कालेज से लोग जुडे है जिनमे डॉ ऋषि सोलंकी, डॉ़ विनय सिंह, डॉ दुश्यंत, डॉ श्याम, डॉ नौशाद, डॉ राजिब, राकेश मिश्र, गोविंद, किशोर, विपिन, डॉ प्रमोद, सुधांशु सहित कई डॉक्टर और लोग शामिल हैं।

Show More
Shivani Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned