सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर दिल्ली पुलिस के डीसीपी का सवाल, दिवाली पर पटाखे फोड़ने पर भी जेल, क्या मैं भारत में हूं

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर दिल्ली पुलिस के डीसीपी का सवाल, दिवाली पर पटाखे फोड़ने पर भी जेल, क्या मैं भारत में हूं

Amit Kumar Bajpai | Publish: Nov, 10 2018 11:50:18 AM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 11:50:19 AM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर दिल्ली पुलिस के डीसीपी ने ही सवाल खड़ा कर दिया। मामला दीपावली पर निर्धारित समय के भीतर चुनिंदा पटाखे फोड़ने के आदेश पर की जाने वाली पुलिसिया कार्रवाई को लेकर था।

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर दिल्ली पुलिस के डीसीपी ने ही सवाल खड़ा कर दिया। मामला दीपावली पर निर्धारित समय के भीतर चुनिंदा पटाखे फोड़ने के आदेश पर की जाने वाली पुलिसिया कार्रवाई को लेकर था। इस पर सवाल उठाते हुए डीसीपी देवेंदर आर्य ने ट्वीट करके पूछा कि क्या मैं अपने भारत में हूं, जय श्रीराम?

दरअसल, दिल्ली में वायु प्रदूषण की समस्या को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने इस बाद आदेश दिया था कि राजधानी में केवल दो घंटे के लिए ही पटाखे फोड़े जाएं। सर्वोच्च अदालत ने यह भी कहा था कि केवल ग्रीन पटाखे ही फोड़े जाएं। आदेश का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई की बात भी कही गई थी।

भारतीय सेना की बढ़ी ताकत, मिलीं दुश्मनों को धूल चटाने वाली K9 वज्र और M777 होवित्जर

दिल्ली पुलिस ने किया भी ऐसा ही और आदेश की अवहेलना करने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के साथ ही गिरफ्तारी भी की। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट और दिल्ली पुलिस की इस कार्रवाई का सोशल मीडिया पर जमकर विरोध किया गया।

 

Delhi Police DCP Devender Arya Tweet

वहीं, दीपावली जैसे त्योहार पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश और पुलिस की सख्ती से दिल्ली पुलिस के एक उपायुक्त देवेंदर आर्य का दिल द्रवित हो गया। वो अपनी भावनाओं पर नियंत्रण नहीं रख सके और सर्वोच्च न्यायालय पर ही सवाल उठा दिया। उन्होंने लिखा, "दिवाली पे बम/पटाखा बजाने पे जेल हो सकती है। कभी सोचा नहीं कि ये दिन आएगा। क्या मैं अपने भारत देश में ही हूं? जय श्रीराम। जय हिंद।"

सेब की पेटियों में छिपा रखा था 200 करोड़ का मौत का सामान, थी यह बड़ी तैयारी

सोशल मीडिया पर इस ट्वीट के आते ही यह वायरल हो चला और यूजर्स ने इसे जमकर आगे फॉरवर्ड-शेयर किया। जब दिल्ली पुलिस के उच्चाधिकारियों को इस बात की भनक लगी तो डीसीपी देवेंदर आर्य इसे डिलीट कर दिया। शुक्रवार को इस संबंध में दिल्ली पुलिस ने सफाई जारी की कि उनका इस ट्वीट से कोई लेना-देना नहीं है। इसकी वजह यह है कि अधिकारी ने इसे अपने निजी ट्विटर हैंडल से पोस्ट किया है।

हालांकि मामले को तूल पकड़ता देख डीसीपी ने ट्वीट हटाने के बाद एक नया पोस्ट किया और लिखा, "यह मेरी तरफ से हुई एक क्षणिक लापरवाही थी। यह किसी तरह का विचार या बयान प्रदर्शित नहीं करता है। मैं इस लापरवाही के लिए माफी मांगता हूं।"

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned