दिल्ली वाले घर में रहकर मनाएंगे ईद, लॉकडाउन के नियमों का भी करेंगे पालन

  • आज चांद दिखा तो कल, नहीं तो परसों लोग मनाएंगे ईद।
  • पुलिस ने लोगों से लॉकडाउन के नियमों का पालन करने की अपील।
  • शांति समिति की बैठक में सभी ने घर में रहकर ईद मनाने का समर्थन किया।

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ( Coronavirus ) और लॉकडाउन ( Lockdown ) के चलते देशभर में धार्मिक स्थलों को बंद रखने का आदेश है। इस बीच ईद-उल-फितर को ध्यान में रखते हुए दिल्ली के अधिकांश मस्जिदों के इमामों ने भी मुस्लिम समुदाय के लोगों से अपील की है कि वो घर पर रहकर ही नमाज पढ़ें और शांतिपूर्ण तरीके से ईद ( Eid ) मनाएं। अगर आज चांद दिखा तो कल ईद मनाई जाएंगी नहीं तो परसों सभी लोग ईद मनाएंगे।

साथ ही मस्जिद के इमामों और मौलवियों ने कहा है कि लॉकडाउन के नियमों का सभी पालन करें। इसी में खुद की और सबकी भलाई है।

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद इलाके के लोगों बयान जारी कर बताया है कि वे लोग लॉकडाउन 4.0 के बीच सभी दिशा-निर्देशों और मानदंडों को ध्यान में रखते हुए ईद-उल-फितर मनाएंगे। स्थानीय लोगों का कहना है कि कोरोनो वायरस से खुद को बचाना हमारी ज़िम्मेदारी है। हम सभी दिशानिर्देशों का पालन करेंगे और घर पर प्रार्थना करेंगे।

पुलिस ने लॉकडाउन के नियमों का पालन करने की अपील

दूसरी तरफ लॉकडाउन के बीच ईद-उल-फितर का त्योहार शांतिपूर्ण मनाने के लिए शुक्रवार को दिल्ली पुलिस ( Delhi Police ) और प्रशासनिक अधिकारियों ने सभी जिलों में शांति समिति के लोगों के साथ बैठक की। अधिकारियों ने बैठक में आए लोगों से लॉकडाउन के नियमों का पालन कर ईद मनाने की अपील की। अधिकारियों के सुझाव का समर्थन करते हुए मौलवियों ने भी लोगों से घर में रहकर की ईद मनाने की अपील की।

एहतियात के तौर पर जामिया नगर इलाके में ईद के त्योहार को देखते हुए भारी पुलिस बल के साथ फ्लैग मार्च निकाला गया। इस दौरान पुलिस ने सभी से अपील की है वह ईद का त्योहार अपने घरों पर रहकर ही मनाएं। कोई भी लॉकडाउन का उल्लंघन न करें। लोगों को सुरक्षित रखने के लिए ही लॉकडाउन हुआ है।

आपको बता दें कि दिल्‍ली की जामा मस्जिद ( Jama Masjid ) में शुक्रवार का नजारा बेहद अलग था। आमतौर पर हर जुमे को यहां भारी भीड़ होती है। इस बार तो मौका भी खास था। रमजान का आखिरी जुमा था। अलविदा की नमाज पढ़ी जानी थी। मगर कोरोना वायरस ने कई बंदिशें लगा दी हैं। ऐसे में अलविदा की नमाज में जामा मस्जिद का स्‍टाफ और शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी के परिवार के कुछ सदस्‍य ही शामिल हुए। बुखारी अपनी तकरीर के दौरान थोड़ा भावुक हो गए और रुमाल से अपने आंसू पोछते दिखाई दिए।

coronavirus
Show More
Dhirendra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned