लालू यादव की तबीयत फिर खराब, हाइपरटेंशन और डिप्रेशन के हुए शिकार- डॉक्टर

लालू यादव की तबीयत फिर खराब, हाइपरटेंशन और डिप्रेशन के हुए शिकार- डॉक्टर

गौरतलब है कि चारा घोटाले में सजा काट रहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद की ओर से शिकायत आई थी कि सुपर स्पेशियलिटी वार्ड के समीप कुत्तों के लगातार भौंकने की वजह से सो नहीं पा रहे थे।

रांची: राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (रिम्स) के पेइंग वार्ड में भर्ती हैं। उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं चल रहा है। रिम्स के डॉयरेक्टर आर के श्रीवास्तव ने कहा कि लालू यादव इस समय हाइपर टेंशन और थोड़ा बहुत डिप्रेशन में हैं। उनकी हालत सामान्य हैं। डॉक्टर श्रीवास्तव ने कहा कि तबीयत ठीक नहीं रहने और मौसम बदलने के चलते डिप्रेशन में हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि उन्हें कही और शिफ्ट करने की आवश्यकता नहीं है।

कुत्ते के भौंकने से परेशान थे लालू यादव

गौरतलब है कि चारा घोटाले में सजा काट रहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद की ओर से शिकायत आई थी कि सुपर स्पेशियलिटी वार्ड के समीप कुत्तों के लगातार भौंकने की वजह से सो नहीं पा रहे थे। राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (रिम्स) के पेइंग वार्ड में भर्ती किया गया । यहां भर्ती करने की अनुमति बिरसा मुंडा केंद्रीय कारागार के अधीक्षक ने दी।"

ये भी पढ़ें: मिशन 2019: भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को दिया मूलमंत्र

जनता दल यू ने कसा था तंज

लालू ने की थी शिकायत राष्ट्रीय जनता दल के विधायक भोला यादव ने 3 सितंबर को कहा था कि लालू यादव कुत्तों के भौंकने की वजह से सो नहीं पा रहे हैं और इससे उनके स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि राजद प्रमुख का शुगर का स्तर सामान्य स्तर से ज्यादा है। रिम्स के नए बने पेइंग वार्ड में शिफ्ट कर दिया जाए। इस पर जनता दल यू ने तंज कसा था। जद (यू) ने कहा कि राजद के शासनकाल में भी बिहार की जनता बहुत डरी हुई थी। 'बोए पेड़ बबूल का तो आम कहां से होए।'लालू यादव ने रांची में सीबीआई की विशेष अदालत के समक्ष 30 अगस्त को आत्मसमर्पण किया था। उसी दिन, उन्हें इलाज के लिए बिरसा मुंडा केंद्रीय कारागार से रिम्स ले जाया गया था। गौरतलब है कि लालू प्रसाद एक साथ कई बीमारियों से जुझ रहे हैं ।

Ad Block is Banned