करतारपुर जाने के लिए लेनी होगी विदेश मंत्रालय की मंजूरी!

  • पाकिस्तान के निमंत्रण पर जाने के लिए आधिकारिक मंजूरी जरूरी।
  • आगामी 8 नवंबर को प्रधानमंत्री करेंगे औपचारिक शुभारंभ।
  • पूर्व पीएम मनमोहन सिंह भी जाएंगे पहले जत्थे में।

नई दिल्ली। आगामी 8 नवंबर को पाकिस्तान में करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन होगा। पीएम मोदी इस बहुप्रतीक्षित कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे। हालांकि अब विदेश मंत्रालय का कहना है कि पाकिस्तान ने जिन लोगों को करतारपुर गलियारे के उद्घाटन समारोह के लिए आमंत्रित किया है, उन्हें वहां जाने के लिए आधिकारिक स्तर पर मंजूरी लेनी होगी।

विदेश मंत्रालय ने यह बयान पाकिस्तान द्वारा कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू को करतारपुर गलियारा उद्घाटन समारोह के लिए भेजे गए निमंत्रण के संदर्भ में दिया है। सिद्धू ने कहा है कि उन्हें पाकिस्तान का निमंत्रण मिला है और वह समारोह में शिरकत करेंगे।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने इस संबंध में कहा कि अगर नवजोत सिंह सिद्धू का नाम करतारपुर के उद्घाटन के लिए जाने वाले श्रद्धालुओं के जत्था की सूची में है, तो मुझे लगता है कि राजनीतिक शख्सियतों या आमंत्रित व्यक्तियों को राजनीतिक क्लीयरेंस लेने की जरूरत है और जिनका नाम इस सूची में नहीं है वो इस बारे में जान जाएंगे। इसमें कोई हैरानी की बात नहीं है।

कुछ वक्त पहले बठिंडा से शिरोमणि अकाली दल की सांसद और केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने ट्वीट में किया था, "गुरु नानक देव जी के आशीर्वाद से सिख पंथ की अरदास कि श्री करतारपुर साहिब के 'खुले दर्शन दीदार' हों, आखिरकार हकीकत बनने जा रहे हैं। आगामी 8 नवंबर को पीएम नरेंद्र मोदी करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन कर इतिहास रचेंगे।"

हरसिमरत ने अपने ट्वीट में विपक्षी पार्टी कांग्रेस पर भी निशाना साधते हुए लिखा, "सदा गुरु साहब की आभारी रहूंगी कि उन्होंने मोदी जी को 72 साल पहले कांग्रेस द्वारा किए गए गलत वादे को सुधारने के लिए सक्षम बनाया और हमें गुरु के घर तक जोड़ने का मौका दिया।"

इससे पहले कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा था कि वह केवल करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाने वाले पहले सर्वदलीय जत्थे का नेतृत्व करेंगे और वहां जाकर माथा टेकेंगे, ना कि पाकिस्तान जाएंगे।

वहीं, ऐसी कुछ रिपोर्टों जिसमें कहा गया है कि डॉ. मनमोहन सिंह ने पाकिस्तान का निमंत्रण स्वीकार कर लिया है, के सवाल पर कैप्टन ने कहा था कि उन्हें ऐसा नहीं लगता कि डॉ. सिंह की ऐसी कोई योजना है।

उन्होंने कहा, "ऐसा कोई सवाल ही नहीं उठता है कि मैं जा रहा हूं (करतारपुर कॉरिडोर की ओपनिंग में पाकिस्तान) और मुझे लगता है कि डॉ. मनमोहन सिंह भी नहीं जाएंगे।" इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि करतारपुर कॉरिडोर के रास्ते गुरुद्वारा जाना और पाकिस्तान जाना, दोनों ही बातों में बहुत अंतर है।

हिंदुस्तान से एक जत्था गुरु नानक देव की 550वीं जयंती के अवसर पर सीमा पर बने ऐतिहासिक गुरुद्वारे में सीएम के नेतृत्व में माथा टेकने जाएगा। सीएम ने कहा कि भारत अपनी तरफ से सभी श्रद्धालुओं की सुरक्षा को लेकर पूरी तैयारी कर चुका है। बता दें कि इस कॉरिडोर का उद्घाटन समारोह गुरु नानक देव की 550वीं जयंती से तीन दिन पूर्व आयोजित किया जाएगा।

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned