मंडी में कम रेट मिलने से परेशान किसान ने फसल पर चला दिया था ट्रैक्टर, मोदी सरकार ने की मदद

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने फेसबुक एक पोस्ट साझा कर बताया है कि उनकी सरकार ने किसान की मदद की है। अब उसे अपनी फसल का उचित मूल्य मिल गया है

नई दिल्ली। कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो खूब वायरल हुआ था। वीडियो में एक किसान अपने गोभी की तैयार फसल में ट्रैक्टर चलाता नजर आ रहा था। किसान अपनी ही फसल को इसलिए बर्बाद कर रहा था क्योंकि उसे अपनी फसल का मूल्य नहीं मिल रहा था। अब मोदी सरकार ने इस किसान की मदद की है।

Farmer Protest : किसान आंदोलन को लेकर आज का दिन अहम, सुप्रीम कोर्ट का आ सकता है फैसला

सरकार ने की मदद

दरअसल, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने फेसबुक एक पोस्ट शेयर किया है जिसमें उन्होंने लिखा ‘ कल मीडिया के द्वारा मुझे खबर मिली थी कि बिहार के समस्तीपुर के मुक्तापुर गांव के किसान ओम प्रकाश यादव को अपने खेत में उगाई गोभी की फसल का स्थानीय आढ़त में मात्र एक रुपया प्रति किलो भाव मिल रहा था। निराश हो कर उन्होंने अपने खेत के कुछ हिस्से पर ट्रैक्टर चलवा कर फसल को नष्ट कर दिया।

उन्होंने आगे लिखा कि मैंने अपने विभाग के कॉमन सर्विस सेण्टर को निर्देश दिया कि इस किसान से संपर्क कर इनकी फसल को देश के किसी भी बाज़ार में उचित मूल्य पर बेचने का प्रबंध किया जाये। CSC के डिजिटल प्लेटफॉर्म ई-किसान मार्ट पर इस किसान को दिल्ली के एक खरीदार ने दस रूपये प्रति किलो का मूल्य ऑफर किया।

स्वतंत्र देव सिंह ने विपक्ष के प्रदर्शन को बताया नाटक, कहा- किसानों तक उनका हक पहुंचा रही बीजेपी

किसान और खरीदार की आपसी सहमति कुछ ही घंटों में किसान के बैंक खाते में आधी राशि एडवांस के रूप में पहुँच गई। आज मुझे पता चला है कि न सिर्फ ट्रांसपोर्ट उपलब्ध करवाया गया बल्कि बची हुई राशि भी किसान के बैंक खाते में जमा हो गई है और समस्तीपुर की गोभी दिल्ली के लिए रवाना हो गई है।

केंद्रीय मंत्री ने अपनी पोस्ट में दावा किया कि मोदी सरकार के नए कृषि कानूनों ने किसान को अपनी फसल कहीं भी बेचने की आज़ादी दे दी है। बिहार का ये किसान जिसे स्थानीय मंडी में मिल रहे दाम से निराश हो कर अपनी फसल नष्ट करने पर मजबूर होना पड़ा था, अब स्थानीय दाम से दस गुना अधिक दाम पर दिल्ली में अपनी फसल बेच पाया है।

परेशान था किसान

बिहार के समस्तीपुर जिले में रहने वाले ओम प्रकाश यादव पेशे से किसान है। उन्होंने गोभी की खेती में चार हजार रुपए प्रति कट्ठा का खर्च किया था। फसल तौयार हो तो गई लेकिन जब वे उसे बेचने के लिए बाजार गए तो उनकी गोभी के रेट कौड़ियों के भाव के बराबर हो गए हैं। मिली जानकारी के मुताबिक गोभी का दाम एक रुपये प्रतिकिलो से भी कम लगाया गया था। मजबूरन ओम प्रकाश ने अपनी फसल पर ट्रैक्टर चलवाना पड़ा। लेकिन अब सरकार ने उनकी मदद कर दी है।

 

Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned