पुरस्कार लौटाने का सिलसिला फिर शुरू, मणिपुर के फिल्म निर्माता ने लौटाया पद्मक्षी पुरस्कार

पुरस्कार लौटाने का सिलसिला फिर शुरू, मणिपुर के फिल्म निर्माता ने लौटाया पद्मक्षी पुरस्कार

Prashant Kumar Jha | Publish: Feb, 03 2019 06:26:39 PM (IST) | Updated: Feb, 03 2019 08:48:32 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

हालांकि इस बार यह असहिष्णुता या डर के मुद्दे पर नहीं बल्कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ है।

नई दिल्ली: मोदी सरकार में पुरस्कार लौटाने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। करीब 4 साल बाद फिर से पुरस्कार लौटाने का काम शुरू हो गया है। अब इस फेहरिस्त में पूर्वोत्तर के फिल्मकलाकार का नाम भी जुड़ गया है। हालांकि इस बार यह असहिष्णुता या डर के मुद्दे पर नहीं बल्कि नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ है। मणिपुर में फिल्म निर्माता अरबिम श्याम शर्मा ने ‘नागरिकता संशोधन विधेयक’ के विरोध में अपना पद्मश्री पुरस्कार लौटाने का ऐलान किया है। 83 वर्षीय अरबिम श्याम शर्मा को 2006 में मणिपुरी सिनेमा और फिल्मों में महत्वपूर्ण योगदान के लिए दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम ने इस सम्मान से नवाजा था।

नागरिकता कानून का विरोध

अरिबम श्याम शर्मा मशहूर फिल्मकार हैं। उन्होंने कहा, "मणिपुरवासियों को सुरक्षा की जरूरत है। केंद्र सरकार हमारा सम्मान करे। इसे आबादी के आधार पर नहीं मापा जाना चाहिए। उत्तर पूर्वी राज्यों संयुक्त रूप से जब कोई चीज सरकार के समक्ष पेश करें, तब उसे उस चीज पर विचार करना चाहिए। लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया गया । जिसके बाद मैंने ये फैसला लिया है। शर्मा ने आगे कहा कि 500 से अधिक सदस्यों वाले सदन (लोकसभा) में राज्य के सिर्फ एक या दो सदस्य हैं। ऐसे में संसद के भीतर देश के उत्तर पूर्वी हिस्से की आवाज क्यों और कैसे होगी।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned