दलित लेखक कांचा इलैया पर केस दर्ज, अपनी पुस्तक के जरिये धार्मिक भावनाएं आहत करने का आरोप

amit sharma

Publish: Oct, 13 2017 09:58:05 (IST)

Miscellenous India
दलित लेखक कांचा इलैया पर केस दर्ज, अपनी पुस्तक के जरिये धार्मिक भावनाएं आहत करने का आरोप

एक अनुसूचित जाति के छात्र की शिकायत पर हैदराबाद पुलिस ने दर्ज किया मामला

 

हैदराबाद. प्रसिद्द दलित लेखक कांचा इलैया पर धार्मिक भावनाओं को भड़काने का आरोप लगा है. आरोप है कि उन्होंने अपनी पुस्तक 'समाजिका स्मगलुरलू कोमातोल्लू' के जरिये दलित, अनुसूचित जाति, वैश्य जाति और पूरे हिन्दू धर्म पर निशाना साधा है. एक अनुसूचित जाति के छात्र की शिकायत पर हैदराबाद पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है.

आरोप है कि अपनी पुस्तक 'समाजिका स्मगलुरलू कोमातोल्लू' यानी 'वैश्य लोग सामाजिक स्मगलर होते हैं' में कांचा इलैया ने वैश्य समुदाय के लिए भारी अपमानजनक टिप्पणी की है और अपनी बात को रखने के लिए बेहद आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया है. उन्होंने पूरी पुस्तक में हिन्दू व्यवस्था पर आपत्तिजनक टिप्पणी भी की है.

'आरुषि हत्याकांड में आया फैसला हमारे करप्ट सिस्टम का उदाहरण'

वैश्य समाज ने जताया विरोध
कांचा इलैया की इस पुस्तक के कारण तेलंगाना का वातावरण तनावग्रस्त हुआ है. पूरे राज्य में वैश्य समाज ने उनके खिलाफ धरना-प्रदर्शन किया है. वैश्य समाज का कहना है कि उनके समाज ने अपनी व्यापारिक स्किल के द्वारा समाज में हमेशा सबकी सेवा की है. इसके लिए उन्होंने किसी का शोषण नहीं किया है और व्यापार में सबको समान अवसर प्रदान करवाया है. इतना ही नहीं, सामाजिक कार्यों में भी वैश्य समाज ने आगे बढ़कर दान दिया है और अपनी भूमिका निभायी है. इसलिए उनके समुदाय के लिए अपमानजनक शब्दों का प्रयोग करना, एक नकारात्मक सोच का परिचायक है.
खुद कांचा इलैया ने भी खुद पर एक जानलेवा हमले का आरोप लगाते हुए एक मामला दर्ज करवाया था. उनका आरोप था कि कुछ अज्ञात लोग उनकी जान को नुक्सान पहुंचा सकते हैं.

WhatsApp पर लिखा ये दर्दनाक स्टेटस, और मौत को लगा लिया गले

इन मामलों में दर्ज हुआ मामला

कांचा इलैया पर भारतीय दंड संहिता (IPC) की धाराओं 153 A (धर्म या जाती के आधार पर दो समुदायों में शत्रुता पैदा करने की कोशिश करना) और 295 A (किसी समुदाय की भावनाओं को जानबूझकर ठेस पहुँचाने के लिए उनके धार्मिक विश्वासों या प्रतीकों का अपमान करना) के तहत मामला दर्ज किया गया है.

 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned