चार देशों की अंतरराष्ट्रीय बस सेवा का परीक्षण शुरू , यात्रियों की सुरक्षा पर होगा जोर

बांग्लादेश, भूटान, भारत और नेपाल के बीच चार देशों की अंतरराष्ट्रीय बस सेवा का परीक्षण शुरू हुआ।

कोलकाता। बांग्लादेश, भूटान, भारत और नेपाल के बीच चार देशों की अंतरराष्ट्रीय बस सेवा समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद परीक्षण सेवा शुरू की गई है। बांग्लादेश-भूटान-भारत-नेपाल (बीबीआईएन) मोटर वाहन समझौते के तहत लांच की गई दो यात्री बसें मंगलवार देर रात जलपाईगुड़ी पहुंचीं।
बसों ने ढाका से तीन देशों के 49 आधिकारिक प्रतिनिधियों के साथ अपनी यात्रा शुरू की। माना जा रहा है कि इसकी मदद से चारों देशों के बीच बेहतर रिश्ते का पनप सकेंगे। गौरतलब है कि चारों देश एक दूसरे की सीमाओं को छूते हैं। इस समझौते की मदद से भारत के लोगों को काफी राहत मिल सकेगी। दरअसल देश की सुरक्षा और यात्रियों की सुविधा के लिए परीक्षण किया जा रहा है। इसकी मदद से यह जाने की कोशिश की जा रही है कि यात्रा के दौरान यात्रियों को किस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसे जांचने के लिए यह परीक्षण शुरू किया है।

परीक्षण के लिए सभी देशों की मंजूरी

बसों के दो बैच नेपाल की राजधानी काठमांडू से प्रस्थान करेंगे और दूसरा सिलीगुड़ी के मिनी सचिवालय से रवाना होगा। इस समझौते को भारत, नेपाल और बांग्लादेश ने मंजूरी दे दी है। भूटान अभी तक समझौते की प्रक्रिया में शामिल नहीं हो सका है, मगर संभावनाएं जताई जा रहीं हैं कि वह जल्द इसमें शामिल होगा। अभी तक परीक्षण सेवा में केवल इन तीन देशों को शामिल किया गया है और मार्ग से जुड़ी कठिनाइयों और संभावनाओं को जानने के लिए किया गया है। बांग्लादेश रोड ट्रांसपोर्ट और राजमार्ग डिवीजन के उप सचिव सुल्तान यास्मीन के अनुसार यात्रा के दौरान टीम मार्ग का सर्वेक्षण,आप्रवासन औपचारिकताओं,सीमा चौकियों और अन्य सुविधाओं की जांच करेगी। नेपाल के शारीरिक बुनियादी ढांचे और परिवहन मंत्रालय के अंतर्गत सचिव गोबिंदा प्रसाद खरेल ने बताया कि इससे न केवल हमारे सौहार्दपूर्ण संबंध विकसित होंगे। बल्कि संस्कृति, व्यापार और सार्वजनिक परिवहन भी विकसित हो सकेगा।

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned