सरकार ने कहा, SC-ST की लड़कियां बाल विवाह की सबसे ज्यादा शिकार

पश्चिम बंगाल में एससी लड़कियों में बाल विवाह की दर सबसे ज्यादा है, जबकि अरुणाचल प्रदेश में यह अनुसूचित जनजाति में सबसे ज्यादा है।

नई दिल्ली। एससी और एसटी एक्ट को लेकर देशभर में मचे बवाल के बीच एक हैरान करने वाली रिपोर्ट सामने आई है। जिसके मुताबिक भारत में अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजातियों (एसटी) वर्ग में बाल विवाह की दर सबसे ज्यादा है। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार, यह तथ्य 10 शीर्ष राज्यों में देखा गया, जहां बाल विवाह सबसे ज्यादा हुआ है।

15-19 वर्ष के बच्चों का सबसे ज्यादा बाल विवाह

एनसीपीसीआर की वेबसाइट पर जारी रिपोर्ट कहा गया है कि एससी में यह दर 13 प्रतिशत और एसटी में 15 प्रतिशत है। यह जानकारी मिली। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे (एनएचएफएस) के तीसरे व चौथे चरण के दौरान 15-19 वर्ष समूह में बाल विवाह के आंकड़ों के तुलनात्मक विश्लेषण पर आधारित है, जोकि 2005-2006 और 2015-2016 में किए गए थे। रिपोर्ट को रिसर्च केंद्र यंग लाइव्स इंडिया ने एनसीपीसीआर के साथ मिलकर तैयार किया है।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस के हमलों पर बीजेपी का पलटवार, माल्या के कालेधन का इस्तेमाल करते थे राहुल गांधी

यहां अनुसूचित जाति की लड़कियों की बाल विवाह दर सबसे ज्यादा

पश्चिम बंगाल में एससी लड़कियों में बाल विवाह की दर सबसे ज्यादा है, जबकि अरुणाचल प्रदेश में यह अनुसूचित जनजाति में सबसे ज्यादा है। अन्य जातियों में महाराष्ट्र में बाल विवाह का प्रतिशत सबसे ज्यादा है। इसके अलावा बिहार, गुजरात और तेलंगाना में 18 वर्ष से कम उम्र की अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) लड़कियों में बाल विवाह का प्रचलन सबसे ज्यादा है।

गरीब परिवारों में बाल विवाह का प्रचलन अधिक

रिपोर्ट के अनुसार, एनएफएचएस-3(2005-2006) और एनएफएचएस-4( 2015-16) की रिपोर्ट में 15-19 वर्ष की लड़कियों के बाल विवाह के तुलनात्मक विश्लेषण से खुलासा होता है कि अधिकांश राज्यों में बाल विवाह में बीते 10 वर्षो में बड़े पैमाने पर कमी दर्ज की गई है। 15-19 वर्ष की लड़कियों में बाल विवाह में 20 प्रतिशत से ज्यादा की कमी बिहार, झारखंड, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में देखी गई। रिपोर्ट के अनुसार, आर्थिक स्थिति और महिलाओं की शैक्षणिक स्थिति बाल विवाह से जुड़ी हुई है। यह देखा गया है कि बाल विवाह अधिकतर गरीब घरों में हुआ है।

Chandra Prakash
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned