पाकिस्तान से सजा काट लौटे हामिद अंसारी ने कहा- फेसबुक पर कभी प्यार मत करना

पाकिस्तान से सजा काट लौटे हामिद अंसारी ने कहा- फेसबुक पर कभी प्यार मत करना

प्यार के चक्कर में अवैध तरीके से पाकिस्तान पहुंचे और छह साल जेल में रहने के बाद भारत पहुंचे हामिद अंसारी ने कहा कि फेसबुक पर कभी प्यार नहीं करना चाहिए।

नई दिल्ली। सोशल मीडिया पर एक्टिव लोगों को लेकर अक्सर ऐसी चेतावनी दी जाती है कि यहां किसी अंजान पर भरोसा न करें। कई बार आभासी दुनिया में मिले लोग हमें नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। आए दिन सोशल मीडिया के जरिए फर्जीवाड़े की खबरें भी आती हैं। अब पाकिस्तान की जेल से छह साल बाद रिहा हुए हामिद अंसारी ने भारत आकर जो कुछ कहा है उसे जानकर बहुतों की आंखें खुल जाएंगी।

फेसबुक पर मत करो प्यार: हामिद

भारतीय मीडिया द्वारा जब हामिद से जेल में रहने पर मिली सीख से संबधित सवाल किया गया तो जवाब बेहद चौंकाने वाला मिला। उन्होंने कहा कि फेसबुक पर भूलकर भी किसी से प्यार नहीं करना चाहिए। हामिद ने बेहद भावुक होकर कहा कि हमें अपने माता-पिता से कुछ नहीं छिपाना चाहिए चाहे अच्छा हो या बुरा। वे जो भी कहते हैं हमेशा भले के लिए कहते हैं। उन्होंने आगे कहा कि जिंदगी में जो भी करो लीगल तरीके से ही करो।

सुषमा को देखा तो लिपट पर रो पड़े

मंगलवार को बाघा बॉर्डर के रास्ते भारत पहुंचे हामिद ने भारतीय सरजमीं में दाखिल होते धरती को चूमा। बुधवार को वे अपनी मां के साथ विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से भी मिलें। इस दौरान वे लगातार रोते दिखें। इसका एक भावुक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। उन्होंने स्वराज को बताया कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसियों ने उन्हें एक आतंकी की तरह जेल में टॉर्चर किया है।

कैसे पाकिस्तान पहुंच गए हामिद अंसारी

बता दें कि साल 2012 हामिद को एक पाकिस्तानी लड़की से प्यार हो गया था, जिससे वो फेसबुक पर मिले थे। हामिद उसके लिए अफगानिस्तान के रास्ते पाकिस्तान पहुंच गए थे। जिसके बाद उसे अवैध रूप से देश में दाखिल होने का आरोप लगाते हुए गिरफ्तार कर लिया गया। बाद में 15 दिसंबर, 2015 को पाकिस्तान की मिलिट्री कोर्ट ने हामिद को नकली पाकिस्तानी पहचान पत्र बनाने के जुर्म में तीन साल की सजा सुनाई थी। जिस जुर्म के लिए 2012 में गिरफ्तार किया गया था, उस मामले में अधिकतम सजा तीन साल की सुनाई जाती है। इस हिसाब से देखें तो हामिद की रिहाई 2015 में हो जानी चाहिए थी, लेकिन ये तो दूर की बाद है पाक ने उनकी गिरफ्तारी तक की जानकारी भारत को नहीं दी। जो एक तरह से अंतरराष्ट्रीय कानूनों का भी उल्लंघन है। जबकि भारत के विदेश मंत्रालय ने इन 6 सालों में अधिकारिक तौर पर करीब 95 बार हामिद अंसारी का मुद्दा पाकिस्तान के अधिकारियो के सामने रखा था। इसके साथ ही हामिद पर पाक की मिलिट्री कोर्ट ने आतंकवाद के तहत मामला भी चलाया था।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned