हिमाचल के मंडी में पहाड़ दरकने से हड़कंप, बारिश ने बिगाड़े हालात

हिमाचल प्रदेश के मंडी में भूस्खलन कारण सड़क पर दोनों और वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लगी रहीं।

नई दिल्ली। पर्वतीय क्षेत्रों में हो रही लगातार बारिश ने हालात असामान्य कर दिए हैं। यह भारी बारिश का ही नतीजा है कि पहाड़ी क्षेत्रों में भूस्खलन की घटनाओं में इजाफा हो गया है। मंगलवार को हिमाचल प्रदेश के मंडी में भूस्खलन का मामला सामने आया है। यहां एक पहाड़ खिसकर कर नेरचौक-जहू मुख्य मार्ग पर आ गिरा। मुख्य मार्ग पर गिरे मलबे के कारण रात भर यातायात बंद रहा, जिसके कारण सड़क पर दोनों और वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लगी रहीं। वहीं हादसे की खबर के बाद मौके पर पहुंची सरकारी मदद ने राहत कार्य शुरू किया।

गोवा: भाजपा नेता दत्ता प्रसाद नायक का विवादित बयान, राहुल गांधी को कहा लोफर

 

लड़कों के यौन शोषण की रोकथाम के लिए पॉस्को कानून में संशोधन, मेनका गांधी ने उठाई आवाज

हादसे में नुकसान की सूचना नहीं

दरअसल, घटना मंडी में सरकाघाट के खलका के पास की है। सोमवार को रातभर बारिश होने के बाद यहां एक पहाड़ खिसकर नेरचौक-जहू मुख्य सड़क पर आ गिरा। हालांकि हादसे में किसी तरह के कोई नुकसान की सूचना सामने नहीं आ आई है। टीम ने सड़क से मलबा हटाने का काम शुरू कर दिया है। प्रशासनिक अफसरों का कहना है कि जल्द ही सड़क से मलबा हटाकर यातायात सुचारू कर दिया जाएगा। वहीं दूसरी ओर हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले में बादल फटने की जानकारी सामने आई है।

लोकसभा में भाजपा के 3 सांसदों ने बनाया 100 प्रतिशत हाजिरी का रिकॉर्ड, सुप्रिया ने पूछे 983 सवाल

पूरे क्षेत्र में अफरातफरी

बादल फटने से पूरे क्षेत्र में अफरातफरी मच गई। वहीं कई गाड़ियां मलबे में दब गईं। हादसे की सूचना पुलिस प्रशासन को दी गई, जिसके बाद प्रशासनिक टीम ने स्थानीय लोगों की मदद से मलबे को हटाने का काम शुरू किया। यह हादसा बिलासपुर और सोलन की सीमा पर स्थित गतेड़ में हुआ। बादल फटते ही चारों और पानी ही पानी हो गया।

 

Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned