50 रुपए कम होने पर नहीं किया सीटी स्कैन, बच्चे ने तोड़ा दम

रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल सांइसेज में एक बच्चे का सीटी स्कैन सिर्फ इसलिए नहीं किया गया कि उसके पिता के पास 50 रुपए कम पड़ गए थे।

By:

Published: 22 Aug 2017, 05:10 PM IST

नई दिल्ली। गोरखपुर में गैस की कमी के कारण बच्चों की मौत का मामला अभी थमा नहीं था कि अब रांची में एक बहुत ही हृदय विदारक घटना सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, यहां राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल सांइसेज में एक बच्चे का सीटी स्कैन सिर्फ इसलिए नहीं किया गया कि उसके पिता के पास 50 रुपए कम पड़ गए थे। सीटी स्कैन नहीं होने के कारण बच्चे का इलाज नहीं हो पाया और उसने स्ट्रेचर पर ही दम तोड़ दिया।

 

खेलते समय लगी थी चोट
रिपोर्ट के अनुसार, बच्चे को घर में खेलते समय सिर में गिरने के कारण चोट लग गई थी। उसका पिता उसे तुरंत रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज ले गए। यहां प्राथमिक जांच के बाद डॉक्टर ने बच्चे का सीटी स्कैन कराने की सलाह दी। बच्चे को स्ट्रेचर पर डालकर सीटी स्कैन रूम ले जाया गया। यहां बच्चे के पिता से 1350 रुपए जमा करने को कहा गया। लेकिन, बच्चे के पिता के पास उस समय मात्र 1300 रुपए ही थे। बच्चे के पिता ने अस्पताल प्रबंधन से 1300 रुपए जमा करने और 50 रुपए जल्द से जल्द जमा करने की गुहार लगाई। लेकिन अस्पताल प्रबंधन ने इससे इनकार कर दिया और पूरे रुपए जमा करने को कहा। नतीजा ये हुआ कि बच्चे ने सीटी स्कैन के इंतजार में स्ट्रेचर पर ही दम तोड़ दिया।

 

लापरवाह है अस्पताल का स्टाफ
यह पहला मौका नहीं है जब रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में ऐसी घटना हुई है। सूत्रों के अनुसार, इससे पहले भी इस अस्पताल में डाक्टरों की लापरवाही के कई मामले सामने आ चुके हैं। दिसंबर 2015 में यहां हादसे के बाद लाए गए घायलों को कई घंटों तक उपचार नहीं मिला था। इसका मुख्य कारण यह था कि अस्पताल की इमरजेंसी में रात को कोई डॉक्टर तैनात नहीं था। ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए अस्पताल में एक उच्चस्तरीय बैठक भी हुई, लेकिन डॉक्टरों के रवैये में कोई बदलाव नहीं आया है। 

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned