महाराष्ट्र में आज से खुले होटल और लॉज, जानें क्या है नई गाइडलाइन

  • Relaxation In Maharashtra : 33 फीसदी क्षमता के साथ होटल और अतिथि घरों को खोलाने की अनुमति दी गई है
  • अभी खाना-खाने के लिए रेस्टोरेंट्स को अभी बंद रखा गया है, इस पर बातचीत चल रही है

By: Soma Roy

Published: 08 Jul 2020, 05:29 PM IST

नई दिल्ली। मिशन बिगिन अगेन (Mission Begin Again) के पांचवें चरण में महाराष्‍ट्र सरकार ने राज्य में थोड़ी और छूट दी है। इसके तहत आज से कन्‍टेनमेंट जोन के बाहर के होटल (Hotels), लॉज और अतिथि घर खुल गए हैं। हालांकि अभी महज 33 फीसदी क्षमता के साथ ही इसे खोलने की अनुमति दी गई है। साथ ही खाना-खाने के लिए अभी रेस्टोरेंट्स को बंद रखा जाएगा।

महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) की ओर से जारी किए गए नए गाइडलाइन के तहत शॉपिंग मॉल के होटलों को खोलने की अनुमति नहीं होगी। मालूम हो कि राज्य के मुख्य सचिव संजय कुमार के इस आदेश को जारी करने से एक दिन पहले मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने विभिन्न होटल संगठनों के प्रतिनिधियों से बातचीत की थी। इसके बाद ही होटलों को दोबारा खोले जाने की इजाजत दी गई।

गैदरिंग को करना होगा कंट्रोल
कोरोना संक्रमण से बचे रहने के लिए महराष्ट्र सरकार ने होटल प्रबंधकों के लिए कुछ गाइडलाइन तय किए हैं। जिनका पालन जरूरी होगा। सबसे पहले होटल मालिकों को भीड को इकट्ठा होने से रोकना होगा। होटल के कांफ्रेंस रूम में 15 से ज्यादा लोग जमा नहीं हो सकेंगे। इसके अलावा होटल की लिफ्ट एक बार में कम से कम लोग इस्तेमाल कर सकेंगे।

सीमित सुविधाएं
ज्यादा लोग एक जगह इकट्ठा न हो इसके लिए होटल के गेमिंग एरिया, जिम, स्वीमिंग पुल, बच्चों के खेलने का एरिया आदि बंद रहेंगे। इसके अलावा होटल का एसी का तापमान 24 से 30 डिग्री सेल्सियस के बीच ही रखना होगा। ऐसे में ग्राहकों को लग्जरी सुविधाएं नहीं मिल पाएंगी।

सैनिटाइजेशन की व्यवस्था
रिसेप्शन, गेस्ट रूम और सार्वजनिक स्थानों पर सैनिटाइजर सुविधा मुहैया कराए जाने का प्रावधान है। इसके अलावा होटल के रिसेप्शन पर कोरोना को लेकर जागरुक करने वाले पोस्टर-बैनर लगाने होंगे। साथ ही
लिफ्ट, पार्किंग, एंट्री और रिसेप्शन टेबल पर थर्मल स्क्रीनिंग सुविधा होनी चाहिए। स्टाफ और ग्राहकों के लिए मास्क, फेस कवर, दस्तानों का इंतजाम मैनेजमेंट को करना होगा।

डिजिटल पेमेंट पर फोकस
होटल में रुकने के दौरान लोग कम से कम एक-दूसरे के संपर्क में आए इसके लिए डिजिटल पेमेंट पर फोकस किया जा रहा है। होटल को क्यूआर कोड, ऑनलाइन फॉर्म, डिजिटल पेमेंट जैसी सुविधाओं का इस्तेमाल करना होगा। जिससे सारे ट्रांजैक्शन कैशलेस हो सके।

Show More
Soma Roy Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned