Video: खट्टर सरकार से नाराज 120 दलित लोगों ने अपनाया बौद्ध धर्म

सौ से ज्यादा दिन तक धरने पर बैठे थे दलित समाज के लोग

जींद। दिल्ली से सटे हरियाणा में दलित परिवारों के करीब 120 लोगों ने बौद्ध धर्म अपना लिया है। दिल्ली के लदाख बौद्ध भवन में जाकर बौद्ध धर्म अपना लिया। खट्टर सरकार ने जींद व आस-पास के क्षेत्र के दलितों की मांगें नहीं मानी थी इसलिए उन्होंने ये कदम उठाया।

113 दिन से धरने पर थे लोग
दलित समाज का कहना है कि वे पिछले करीबन 113 दिन से जींद में धरने पर बैठे थे लेकिन सरकार उनकी कोई सुनवाई नहीं कर रही थी। अपनी मांगों को लेकर दलित समाज के लोग मुख्यमंत्री से भी मिल चुेके हैं लेकिन हर बार आश्वासन ही दिया गया। दलित समाज ने खट्टर सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया है। दलित नेता दिनेश खापड़ ने बताया, 'हरियाणा सरकार ने 7 मार्च को हमारी मांगें पूरी करने के लिए तैयार हो गए थे। हमने 20 मई को चेतावनी दी थी कि अगर एक सप्ताह में हमारी मांगें पूरी नहीं होतीं तो हम बौद्ध धर्म अपना लेंगे। हमने 27 मार्च को दिल्ली के लिए चलना शुरू किया और 2 जून को लद्दाख भवन में बौद्ध धर्म अपना लिया।'

हेली टैक्सी सर्विस शुरू, अब सिर्फ 20 मिनट पहुंच सकते हैं शिमला से चंडीगढ़

 

क्या हैं मांगें?

दलित समाज की की मांग हैं कि गैंगरेप केस की सीबीआई जांच की जाए, ईश्वर हत्याकांड के परिजनों को नौकरी दी जाए, जम्मू में शहीद हुए दलित परिवार को नौकरी दी जाए और इसके अलावा एससी/एसटी एक्ट में अध्यादेश लाया जाए।दलित नेता ने आरोप लगाया है कि हिंदू समाज के ठेकेदार दलितों का शोषण करने में लगे हैं, ऐसे में धर्म बदलना मजबूरी बन गया था। आपको बता दें कि पिछले कुछ समय में दलितों के खिलाफ हिंसा में बढ़ोतरी हुई है, इसके अलावा हाल ही में सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी/एसटी एक्ट में किए गए बदलाव के बाद भी दलितों का गुस्सा देखने को मिला था। इसको लेकर कई राज्यों में प्रदर्शन हुए थे।

बॉर्डर पर बैठक: पाकिस्तान की अपील पर सेक्टर कमांडर स्तर की बैठक आज शाम 5 बजे

Show More
Saif Ur Rehman
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned