Coronavirus Lockdown : पत्नी के पैर में था फ्रैक्चर, कंधे पर उठाकर 257 किमी दूर घर के लिए निकला पति

Highlights

- Lockdown नकारात्मक असर भी देखने को मिल रहे हैं

-लोग जहां बेरोजगार हो गए हैं

-उनके लिए खाने पीने के लाले भी पड़ते दिख रहे हैं।

नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) का खौफ लगातार जारी है। भारत के बात करें तो भारत में 700 लोग कोरोना वायरस से संक्रमिक है, वहीं 16 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके चलते देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अप्रैल तक की पूरे देश को लॉकडाउन (Lockdown) कर दिया है, लेकिन इसके नकारात्मक असर भी देखने को मिल रहे हैं। लोग जहां बेरोजगार हो गए हैं, वहीं उनके लिए खाने पीने के लाले भी पड़ते दिख रहे हैं। लॉकडाउन लागू होने से आजीविका के साधन खो दिए। कुछ लोगों के लिए यह लॉकडाउन मुश्किल से बीत रहा है। हमेशा बाहर रह कर कार्य करने वाले लोगों और जनप्रतिनिधियों को पूरे दिन घर में रुकना पड़ रहा है।

आज शुक्रवार को लॉकडाउन का तीसरा दिन है। काम-धंधा ठप होने से गुजरात, दिल्ली, मध्य प्रदेश समेत कई जगहों पर मजदूर और रोज कमाकर खाने वालों पर आजीविका का संकट गहरा गया है। अहमदाबाद से बांसवाड़ा के लिए निकले एक दंपती को 257 किमी पैदल सफर करना है। पत्नी के पैर में फ्रैक्चर है, इसलिए पति उसे कंधे पर उठाकर निकल पड़ा। यह तस्वीर काफी भयावह है। मजदूरों की बेबसी की आलाम यह हैकि लोग अपने प्रदेशों में पहुंचने के लिए तरह-तरह के जोखिम उठाने से पीछे नहीं हट रहे हैं। महाराष्ट्र पुलिस ने हाल ही ऐसे दो कंटेनर ट्रकों को पकड़ा है, जो करीब 300 श्रमिकों को राजस्थान लेकर जा रहे थे। कंटेनर ट्रकों में श्रमिकों को ठूंसकर भरा गया था।

आवागमन के साधन नहीं होने पर कई लोग पैदल ही गुजरात से राजस्थान, दिल्ली से बिहार और अन्य राज्यों में अपने घरों की ओर चल पड़े हैं। ऐसी ही राहगीरों को उत्तर प्रदेश में पुलिस ने गुरुवार को खाना खिलाया।

Ruchi Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned