India-China Dispute के बीच भारत सेना को मिलेंगी 72000 US Assault Rifle

  • India-China Dispute के बीच रक्षा मंत्रालय India Army की ताकत को बढ़ाने में जुटा
  • Ministry of Defence 72,000 American assault rifles मंगाने जा रहा है

नई दिल्ली। चीन और पाकिस्तान के साथ जारी तनाव ( India-China Dispute ) के बीच केंद्रीय रक्षा मंत्रालय ( Ministry of Defense ) भारतीय सेना ( Indian Army ) की ताकत को बढ़ाने में लगा है। यही वजह है कि रक्षा मंत्रालय ( Ministry of Defense ) अमरीका से 72 हजार सिग 716 असॉल्ट राइफल ( 72,000 American assault rifles ) मंगाने जा रहा है। भारत रक्षा कोष में शामिल होने वाली ये दूसरे बैच की राइफलें होंगी। इससे पहले ये राइफलें सेना की उत्तरी कमान ( Northern Command ) और अन्य ऑपरेशनल इलाकों में इस्तेमाल के लिए सेना को दी जा चुकी हैं। रक्षा सूत्रों ने भारतीय सेना ( Indian Army ) के हवाले से बताया कि इन से 72 हजार राइफलों ऑर्डर सरकार द्वारा सशस्त्र बलों को दी गई वित्तीय शक्तियों के तहत दिया जा रहा है।

Vikas Dubey Encounter: मुखबिरी के आरोपी गिरफ्तार SI ने SC दायर में की याचिका, बताया जान को खतरा

 

गौरतलब है कि आतंक के खिलाफ अपने अभियानों को गति देने के लिए भारतीय सेना को सिग सॉयर असॉल्ट राइफलों की पहली खेप मिली थी। इन राइफलों को फास्ट ट्रैक खरीद के तहत खरीदा गया था। जानकारी के अनुसार अब नई राइफलों को मौजूदा समय में इस्तेमाल होने वाली भारतीय स्माल आ‌र्म्स सिस्टम (FTP) 5.56 गुणा 45 एमएम राइफलों के स्थान पर यूज किया जाएगा। इन राइफलों को आयुध कारखाना बोर्ड की सपोर्ट से निर्मित किया जाएगा।

Maharashtra में अब Corona Drug Remdesivir खरीदने के लिए दिखाना होगा Aadhaar card, कालाबाजारी पर लगेगी रोक

ffff.png

JP Nadda बोले- Kerala में तेजी से बढ़ रही BJP, 'gold smuggling case' में राज्य सरकार पर उठाए सवाल

सूत्रों के अनुसार लगभग 1.5 लाख आयातित राइफलों का इस्तेमाल आतंकवाद निरोधी अभियानों और एलओसी पर तैनात सैनिकों के लिए किया जाना तय हुआ था, जबकि बाकि सेनाओं को एके-203 राइफले दी जाएंगी। ये भारत और रूस द्वारा संयुक्त रूप अमेठी आयुध कारखाने में निर्मित की जाएंगी। आपको बता दें कि भारतीय सेना लंबे समय से अपने मानक इनसास असॉल्ट राइफलों के प्रयास में हैं, हालांकि अभी तक उसको इस क्षेत्र में कामयाबी नहीं मिल पाई थी।

 

Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned