भारत-चीन के बीच बढ़ते तनाव को लेकर कमांडर लेवल की मीटिंग 12 अक्टूबर को

दोनों देशों के वरिष्ठ कमांडर 12 अक्टूबर को प्रस्तावित मीटिंग में करेंगे तनाव कम करने पर विचार
सीमा विवाद को लेकर 16,000 फुट की ऊंचाई पर तैनात है दोनों देशों की सीमा

भारत चीन सीमा पर दोनों ही देश बढ़ते तनाव के बीच अपनी सैन्य तैयारियों को चाक-चौबंद करने में लगे हैं वहीं दोनों पड़ौसी देशों के बीच 12 अक्टूबर को कमांडर लेवल की एक मीटिंग प्रस्तावित है। इसमें दोनों देशों के वरिष्ठ सैन्य कमांडर भाग लेंगे।

Bihar Election 2020 : सीट शेयरिंग पर सस्पेंस खत्म, बीजेपी आज जारी कर सकती है उम्मीदवारों की सूची

AG Venugopal ने दिग्विजय सिंह को दी बड़ी राहत, अवमानना की कार्यवाही शुरू करने पर लगाई रोक

लेफ्टिनेंट जनरल हरिन्दर सिंह करेंगे भारत का प्रतिनिधित्व
भारत की ओर से लेफ्टिनेंट जनरल हरिन्दर सिंह इस मीटिंग में भाग लेंगे। वह पहले भी उच्च स्तर छह मीटिंग्स में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। पिछली मीटिंग 21 सितम्बर को की गई थी जिसमें भारत का प्रतिनिधित्व नवीन श्रीवास्तव ने किया था। नवीन श्रीवास्तव भारत के विदेश मंत्रालय के ज्वॉइंट सेक्रेटरी (पूर्व एशिया) हैं। श्रीवास्तव भारत-चीन सीमा पर कॉर्डिनेशन का काम कर रहे हैं तथा इस विषय पर हो चुकी पांच मीटिंग्स में भाग ले चुके हैं। चीन की ओर मेजर जनरल लियू लिन मीटिंग में भाग लेंगे। वह दक्षिण शिनजियांग मीलिट्री रीजन के कमांडर हैं।

दोनों देशों ने 16000 फुट की ऊंचाई पर तैनात की है सेना
उल्लेखनीय है कि भारत और चीन के बीच कई मुद्दों पर तनाव चल रहा है। इन्हीं में से एक है चीन द्वारा यह कहना कि वह भारत के केन्द्रशासित प्रदेश के रूप में लद्दाख को मान्यता नहीं देता तथा वहां पर भारत को सैन्य गतिविधियों के संचालन का अधिकार नहीं है। भारत चाहता है कि दोनों क्षेत्रों की सेनाएं समान दूरी पर LAC से पीछे हटें जबकि चीन अपने अधिकार को बनाए रखना चाहता है। ऐसे में दोनों देशों के बीच बातचीत के जरिए तनाव कम करने का प्रयास किया जा रहा है। दोनों ही देशों ने 16,000 फीट की ऊंचाई पर अपनी सेना तैनात की हुई है।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned