India-China Tension : चालबाज चीन लगातार चल रहा नई चाल, अब सीमा पर लगाए Surveillance Camera

  • India-China Tension: सीमा पर Dragon ने चली एक और बड़ी चाल
  • विवादित स्थानों पर PLA ने लगाए सर्विलांस कैमरे ( Surveillance Camera )
  • भारतीय सैनिकों ( Indian Army ) पर रखी जा रही नजर, India ने भी किया ये काम

नई दिल्ली। भारत-चीन ( India-China Tension ) के बीच विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक ओर दोनों देशों के बीच शांति स्थापित करने के लिए लगातार बातचीत जारी है। सैन्य से लेकर राजनयिक स्तर तक दोनों देशों के बीच बातचीत जारी है। लेकिन, चालबाज चीन ( China ) सीमा पर लगातार अपनी नई चाल चल रहा है। एक रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन ने अब विवादित जगहों पर अपने पोस्ट ( Post ) खड़े दिए हैं। साथ ही सर्विलांस कैमरे ( Surveillance Camera ) भी लगा दिए हैं।

Dragon की नई चाल

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सीमा पर चीन ( India-China Face Off ) लगातार अपनी स्थिति मजबूत करने में जुटा है। लिहाजा, उसने अब विवादित जगह पर अपने पोस्ट खड़े कर दिए हैं। साथ ही सर्विलांस कैमरे ( Surveillance Camera ) लगाकार पीपल्स लिबरेशन आर्मी ( Peoples Liberation Army) भारतीय सेना ( India Army ) पर लगातार नजर रख रही है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि बातचीत के बावजूूद चीनी सेवा सीमा ( India-China Issue ) पर लगातार अपनी मौजूदगी बढ़ाने में लगी है। यहां आपको बता दें कि सीमा पर दोनों देशों की सेनाएं कैमरे लगाते हैं। लेकिन, रिपोर्ट में कहा गया है चीनी सैनिकों ने भारतीय सीमा ( India Border ) में भी कैमरे लगाए हैं। रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि लद्दाख ( Ladakh ) के गलवान घाटी ( Galwan Valley ) में अस्थायी पोस्ट पर कैमरे लगाए गए हैं, जिसके जरिए भारतीय सेना पर कड़ी नजर रखी जा रही है। इसके अलावा देपसान्ग, हॉट स्प्रिन्ग्स, पैन्गॉन्ग झील में भी कैमरे लगाए गए हैं। हालांकि, भारत ने भी चीनी सैनिकों पर नजर रखने के लिए कैमरे लगा दिए हैं।

बातचीत का सिलसिला जारी

यहां आपको बता दें कि शांति कायम करने के लिए दोनों देशों ( India China Standoff ) के बीच कई स्तरों की बातचीत हो चुकी है। रिपोर्ट के मुताबिक, NSA अजीत डोभाल ( Ajit Doval ) ने भी अपने चीनी समकक्ष वांग से बातचीत की। इतना ही नहीं डिसइंगेजमेंट प्रक्रिया के तहत गलवान घाटी ( Galwan Valley ) में चीनी सेना ( Chinese Soldiers ) 1.5 किलोमीटर पीछे हटी थी। इतना ही नहीं चीनी सैनिकों द्वारा कैंप को भी हटाने की बात कही गई थी। हालांकि, सेना की ओर से इस मामले को लेकर अब तक कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया गया है। फिलहाल, अब तक इस समस्या का कोई ठोस समाधान नहीं निकला है। दोनों देशों के बीच लगातार बातचीत जारी है। चर्चा यहां तक है कि अब मसले को सुलझाने के लिए मोदी सरकार ( Modi Government ) NSA को बड़ी जिम्मेदारी देने वाली है और अजीत डोभाल लगातार सीमा पर नजर भी बनाए हुए हैं।

Show More
Kaushlendra Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned