India Lockdown: गरीबों की मदद के लिए बनाया गया , बांटा जा रहा है खाने-पीने का सामान

सोशल मीडिया के जरिए की जा रही है गरीबों की मदद
वाट्सप ग्रुप बना कर बांटा जा रहा है खाने-पीने का सामान
कोरोना की वजह से पूरे देश में लगा है lockdown

नई दिल्ली। कोरोना के भय के कारण पूरा देश लॉकडाउन है। इससे सबसे ज्यादा प्रभावित दिहाड़ी मजदूर और गरीब तबके के लोग हो रहे है। लेकिन अब इनके मदद के लिए कई लोग आगे आए है। दिल्ली में अधिकतर गुरुद्वारों की ओर से लंगर गरीब बस्तियों तक पहुंचाया जा रहा है। वहीं हर कॉलोनी में आरडब्ल्यूए ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म के जरिए मदद की शुरुआत की है।

यह भी पढ़ें-कोरोना का खतराः भारत में 40% लोग शौचालय के बाद नहीं धोते हाथ, अध्ययन में चौंकाने वाला

कॉलोनी की समस्याओं और सूचनाओं के लिए एक वाट्सप ग्रुप बनाया गया है। ये ग्रुप गरीबों की मदद के लिए कार्य कर रहा है। इसमें कॉलोनीवासियों से गरीब लोगों के लिए 15 अप्रैल तक के लिए एक किट तैयार करवाया जा रहा है। इसमें आटा, तेल, मसाला, चावल और दाल के पैकेट होंगे। वाट्सप ग्रुप में इसकी सूचना देने पर हर सक्षम परिवार अपनी श्रद्धा के मुताबिक मदद कर रहा है और अपनी हिस्सा राशि कॉलोनी की किराना की दुकान पर जमा करवा रहा है। साथ ही रसीद प्राप्त कर के उसकी सूचना वाट्सप ग्रुप में दे रहा है।

इसके बाद युवाओं की टीम उस किट को सम्बंधित परिवारों तक पहुंचा रही है। वहीं अधिकतर कॉलोनियों के वाट्सप ग्रुप में यह भी सन्देश वायरल किया जा रहा है कि अगर कोई भूखा आपको नजर आता है तो उसकी सूचना दे, खाने का पैकेट वहां पहुंचा दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें-गंध न सूंघ पाना और स्वाद महसूस नहीं होना भी Coronavirus के शुरुआती लक्षण, किया गया दावा

वहीं महिपालपुर में कई होटल मालिकों ने अपने यहां काम करने वाले श्रमिकों के लिए लॉकडाउन तक खाने पीने और रहने की व्यवस्था की है। होटल संचालक रमेश डूडी ने बताया कि कोरोना के चलते होटल व्यवसाय पूरी तरह से खत्म हो गया है और अगले 6 महीने तक सम्भलने की उम्मीद कम है। जो स्टाफ साधन नहीं मिलने के चलते अपने घर नहीं जा पाया हैं, उनके रुकने और खाने पीने की व्यवस्था कर दी है।

होटल मालिकों का कहना है कि ना जाने कब जब तक लॉकडाउन रहेगा। ऐसी परिस्थिति में इनको ऐसे बेसहारा तो नहीं छोड़ सकते थे। उनका कहना है कि होटल संचालकों के सामने इस समय सबसे बड़ी मुसीबत यह है कि व्यापार बन्द है लेकिन लीज का पैसा माफ होगा या नहीं इस पर संशय है।

coronavirus Coronavirus Outbreak
Show More
Shivani Singh Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned