India-China Tension: चीन को एक और बड़ा झटका, Highway Project में अब चीनी कंपनियां नहीं होंगी शामिल

  • India-China Tension: भारत ( India ) ने चीन ( China ) को दिया एक और बड़ा झटका
  • हाईवे प्रोजेक्ट में अब चीनी कंपनियां नहीं होंगी शामिल- Nitin Gadkari
  • India लगातार China को दे रहा है करारा जवाब

नई दिल्ली। भारत और चीन ( India-China Tension ) के बीच तनाव लगातार बढ़ता जा रह है। इधर, भारत ( India ) अब एक के बाद एक चीन ( China ) को बड़ा झटका देने में लगा है। डिजिटली स्ट्राइक ( Digital Strike ) के बाद अब भारत ने हाईवे प्रोजेक्ट ( Highway Project ) को लेकर भी चीन को बड़ा झटका दिया है। केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (Minister of Road Transport ) ने कहा है कि हाईवे प्रोजेक्ट में अब चीनी कंपनियां ( Chinese Company ) शामिल नहीं हो पाएंगी। केन्द्र सरकार ( Central Government ) के इस फैसले से चीन को बड़ा झटका लगा है।

Highway प्रोजेक्ट में चीनी कंपनी BAN

केन्द्री मंत्री नितिन गडकरी ( Central Minister Nitin Gadkari ) ने कहा है कि भारत के हाईवे प्रोजेक्ट ( Highway project ) में चीन की कंपनियां को शामिल नहीं किया जाएगा। उन्होंन कहा कि अगर चीनी कंपनियां किसी भारतीय या फिर अन्य कंपनी के साथ ज्वाइंट वेंचर बनाकर भी बोली लगाती हैं, तो भी उन्हें इसमें शामिल नहीं किया जाएगा। केन्द्रीय मंत्री ने यहां तक कहा कि केन्द्र सरकार ( Central Government ) यह सुनिश्चित करेगी कि चीनी निवेशकों को सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSMEs) जैसे विभिन्न क्षेत्रों में भी निवेश से अब रोका जाए। एक मीडिया हाउस को दिए इंटरव्यू में गडकरी ने कहा कि हमने चीन को लेकर कड़ा रुख अपनाया है। अगर चीनी कंपनियां संयुक्त उद्यम के रूप में आते हैं, तो उन्हें इजाजत नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि सरकार जल्द ही इससे जुड़ी नई नीति लेकर आएगी। नये नियम में भारतीय कंपनियों ( Indian Companies ) को ढील देने और चीनी कंपनियों पर प्रतिबंध लगाने की व्यवस्था की जाएगी। वहीं, जब केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ( Nitin Gadkari ) से पूछा गया कि जो प्रोजेक्ट पहले से चल रहा है उनका क्या होगा? इस पर उन्होंने कहा कि यह फैसला नए प्रोजेक्ट पर लागू होगा। गडकरी के इस बयान से साफ स्पष्ट है कि सरकार पर चीनी कंपनियों को लेकर कोई रियायत नहीं बरतने वाली है और चीन को करार जवाब दिया जाएगा।

BSNL ने भी दिया झटका

इधर, BSNL (Bharat Sanchar Nigam Limited) ने भी चीनी कंपनी का टेंडर रद्द कर दिया है। रिपोर्ट में बताया गया है कि 4G अपग्रेडेशन के लिए जो टेंडर जारी किया गया था, उसे रद्द कर दिया गया है। बताया जा रहा ह कि अब नया टेंडर दोबारा जारी किया जाएगा। यहां आपको बता दें कि सोमवार को केन्द्र सरकार ने 59 चीनी कंपनियों के एप को भारत में बैन कर दिया है। इतना ही नहीं चीनी कंपनियों से लगातार टेंडर छीने जा रहे हैं।

Kaushlendra Pathak Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned