Indian Army ने चीनी सैनिकों की ओर से माइक्रोवेव हथियारों के उपयोग के दावे को फर्जी बताया

Highlights

  • भारतीय सेना ने यह स्पष्ट किया है कि ऐसी कोई घटना घटित नहीं हुई है।
  • प्रोफेसर का दावा था कि इन हथियारों का उपयोग कर चोटियों पर नीचे से हमला किया गया।

नई दिल्ली। लद्दाख में चीन की सेना की ओर से भारतीय सैनिकों पर माइक्रोवेव हथियारों के उपयोग किए जाने के दावे को भारतीय सेना और प्रेस सूचना ब्यूरो ने फेक बताया है। मीडिया के कुछ हिस्सों में चल रही ऐसी खबरें फर्जी हैं। यह भी कहा जा रहा है कि भारतीय सेना ने यह स्पष्ट किया है कि ऐसी कोई घटना घटित नहीं हुई है।

दिल्ली में जैश-ए-मोहम्मद के दो संदिग्ध आतंकवादी गिरफ्तार

गौरतलब है कि मीडिया में चल रही कुछ खबरों के अनुसार चीन के एक विश्वविद्यालय के एक प्रोफेसर का दावा है कि चीन की सेना ने लद्दाख में भारतीय सेना के कब्जे वाली चोटियां खाली कराने के लिए उन पर खास माइक्रोवेव हथियारों का उपयोग किया था। यह दावा चीन की रेनमिन यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज के एसोसिएट डीन जिन केनरांग ने एक ऑनलाइन कार्यक्रम में कही।

 

 

सोशल मीडिया के एक सेमिनार के वीडियो में वे कहते पाए गए कि भारत की सेना ने दो चोटियों पर कब्जा जमा लिया था। ये चोटियां सामरिक दृष्टि से काफी अहम थीं। इस कारण पश्चिमी थिएटर कमांड ने इन चोटियों को वापस लेने का आदेश दिया था।

झारखंड: छठ पूजा को लेकर सीएम ने जनता से ऐहतियात बरतने की अपील की

चीनी सेना को किसी भी स्थिति में फायरिंग किए बगैर इसे खाली कराने का आदेश भी दिया गया था। जिन ने बताया कि इस दौरान हमारे सैनिक एक शानदार उपाय लाए। उन्होंने माइक्रोवेव हथियारों का उपयोग कर चोटियों पर नीचे से हमला किया। इससे ऊपर माइक्रोवेव ओवन जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई। इस दौरान कई भारतीय सैनिकों को उलटियां शुरू हो गईं। आखिरकार सैनिकों को चोटियां छोड़ कर जाना पड़ा।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned