भारतीय सेना अब होगी ज्यादा हाइटेक, जवानों को मिलेगी असाल्ट और स्नाइपर रायफल

जवानों को अत्याधुनिक रायफलों से लैस करने की सरकार की मुहिम के तहत साढे पांच लाख असाल्ट रायफलों की खरीद के लिए टेंडर प्रक्रिया शुरू।

नई दिल्ली। दुनिया की सबसे ताकतवर सेनाओं मे से मानी जाने वाली भारतीय सेना की ताकत और बढ़ने वाली है। सेना को और हाइटेक करने के लिए जवानों को जल्द ही असाल्ट राइफल दिए जाएंगे। इतना ही नहीं दुश्नमों को दूर से देखकर ही मौत की आगोश में सुलाने के लिए स्नाइपर रायफलों की भी खरीदारी होने जा रही है। जवानों को अत्याधुनिक रायफलों से लैस करने की सरकार की मुहिम के तहत साढे पांच लाख असाल्ट रायफलों की खरीद की दिशा में पहला कदम उठाते हुए टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी।

सेना को साढे आठ लाख असाल्ट रायफलों की जरूरत
सेना के सूत्रों के अनुसार उसने असाल्ट रायफल बनाने वाली इच्छुक कंपनियों से जानकारी देने का अनुरोध किया है। ये रायफलें मेक इन इंडिया श्रेणी के तहत खरीदी जाएंगी। अभी तीनों सेनाओं को लगभग साढे आठ लाख असाल्ट रायफलों की जरूरत है। इनमें से लगभग सात लाख की जरूरत अकेले सेना को है जो 1970 के दशक से चली आ रही इंसास रायफलों को बदलना चाहती है।

6 हजार स्नाइपर रायफलों की भी मांगी जानकारी
साथ ही 6 हजार स्नाइपर रायफलों के लिए भी जानकारी पत्र दोबारा मांगे गए हैं। यह कदम ज्यादा से ज्यादा कंपनियों को इस प्रक्रिया में शामिल करने और छूटी हुई कंपनियों को एक मौका देने के लिए उठाया गया है।
टेंडर भरने के लिए 4 सप्ताह का समय
विक्रेताओं को चार सप्ताह में यह जानकारी देनी होगी क्योंकि सेना मार्च के अंत में इस सौदे से संबंधित अनुरोध प्रस्तावों को मांगने की योजना बना रही है।

मेड इन इंडिया तकनीक को बढ़ावा
असाल्ट रायफलों के सौदे में आयुध फैक्ट्रियों को लगभग पौने दो लाख रायफलों की आपूर्ति करनी है जिसके लिए जानकारी पत्र के बजाय सीधे टेंडर की जरूरत होगी। सरकार सेना को दो मोर्चों पर एक साथ अभियान चलाने में सक्षम बनाने के लिए सुनियोजित तरीके से उन्हें आधुनिक हथियारों से लैस करने में लगी है।

Show More
Chandra Prakash Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned