इसरो को मिलेगी नई ताकत, 10 हजार करोड़ के बजट को यूनियन कैबिनेट की मंजूरी

स्पेस टेक्नॉलजी को बढ़ावा देने के लिए यूनियन कैबिनेट ने 10,911 करोड़ रुपये के बजट की घोषणा की है।

नई दिल्ली। स्पेस टेक्नॉलजी को बढ़ावा देने के लिए यूनियन कैबिनेट ने 10,911 करोड़ रुपये के बजट की घोषणा की है। यह बजट भारतीय स्पेस प्रोग्राम को नई ऊर्जा देगा। बुधवार को यूनियन कैबिनेट ने अपने इस फैसले पर अंतिम मुहर लगा दी। बजट में शामिल इस राशि से आगामी सालों में 30 PSLV और 10 रॉकेट्स को लॉन्च किए जाएंगे। इसकी जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि इसरो के सबसे वजनी रॉकेट GSLV Mk III के लिए 4,338 करोड़ रुपये की मंजूरी दी गई है। इस रकम से GSLV Mk III 10 लॉन्चेज में महत्वपूर्ण मदद मिलेगी।

बिहार: बेटी से मिलने आई 65 वर्षीया महिला के साथ 40 वर्षीय अधेड़ ने किया दुष्कर्म

विदेशी निर्भरता से मिलेगा छुटकारा

जानकारों की मानें तो केन्द्र सरकार का यह कदम स्पेस टेक्नॉलजी को एक बड़ा आयाम देगा। इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि अब हमे वजनी सैटलाइट्स लॉन्च करने के लिए विदेशी सहायता पर निर्भर नहीं होना पड़ेगा। केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह के अनुसार GSLV Mk III कार्यक्रम मोदी सरकार की देन है। उनके ही कार्यकाल में यह बनकर तैयार हुआ है।

पीएम मोदी के इंटरव्यू पर हमलावर हुई कांग्रेस, राहुल बोले- पहले से ही तय होते हैं सवाल-जवाब

यूनियन कैबिनेट ने 30 पीएसएलवी रॉकेट्स लॉन्च करने को भी हरी झंडी दे दी है। इसके लिए कैबिनेट ने बजट के रूप में 6,573 करोड़ रुपए जारी किए हैं। कैबिनेट मंत्री के अनुसार स्पेस मिशन के अतिरिक्ति भारत आने वाले महीनों में चंद्रयान-2 को भी लॉन्च करेगा।

पीएम मोदी ने किया प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को संबोधित, 2022 तक हर परिवार के पास होगा अपना घर

इसरो के लिए यह एक बड़ी उपलब्धि

इसरो चेयरमैन के सिवान के अनुसार इसरो के लिए यह एक बड़ी उपलब्धि है। कैबिनेट के अनुमति से अब पीएसएलवी और जीएसएलवी रॉकेट लॉन्चेज के माध्यम से हमारे स्पेस प्रोग्राम्स को नई ऊर्जा मिलेगी।

Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned