जम्मू-कश्मीर: माता वैष्णो देवी के पुरानी गुफा के होंगे स्वर्णिम दर्शन, घाटी में बदलेगी मंदिरों की सूरत

जम्मू-कश्मीर: माता वैष्णो देवी के पुरानी गुफा के होंगे स्वर्णिम दर्शन, घाटी में बदलेगी मंदिरों की सूरत

  • 10 करोड़ की राशि से तैयार हुआ स्वर्ण द्वार
  • माता के मंदिर के चढ़ाबे से खर्च की गई पूरी राशि
  • 65 दिन में बन कर तैयार किया गया यह स्वर्ण द्वार

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर के तमाम बंद पड़े मंदिरों को शुरू करने का फैसला लिया है। इस बीच घाटी के सबसे बड़े मंदिरों में शुमार माता वैष्णो देवी मंदिर को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है। शारदीय नवरात्र में मां वैष्णो देवी के दर्शनों की अभिलाषा रखने वाले भक्तों के लिए एक अच्छी खबर है।

भवन में आने वाले श्रद्धालुओं को अब माता की पुरानी गुफा के स्वर्णिम दर्शन होंगे। माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की ओर से बड़ा बदलाव किया गया है। इसके तहत मां वैष्णो देवी की प्राचीन गुफा के प्रवेश द्वार को अब स्वर्ण युक्त बनाया गया।

मंडरा रहा है चक्रवाती तूफान का खतरा, देश के इन राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट

golden-gate-vaishno-devi-759-696x387.jpg

माता वैष्णो देवी के दरबार में हाजरी लगाने वाले भक्तों के लिए एक अच्छी खबर है। माता के दर्शन अब पुरानी गुफा के स्वर्णिम महल से होंगे। खास बात यह है पहले नवरात्र यानी 29 सितंबर से ही श्रद्धालु इस द्वार के दर्शन कर सकेंगे।

स्वर्णिम द्वार से जुड़ी खास बात
- 10 करोड़ की राशि से तैयार हुआ स्वर्ण द्वार
- माता के मंदिर के चढ़ाबे से खर्च की गई पूरी राशि
- 65 दिन में बन कर तैयार किये गया यह स्वर्ण द्वार
- 16 फीट चौड़ा और 25 फीट ऊंचा है द्वार
- स्वर्ण द्वार के निर्माण में हजार किलो चांदी
- 1000 किलो ताम्बा
- 10 किलो सोने का इस्तेमाल किया गया।
- 25 किलो सोने चांदी की घंटियां मुख्य द्वार पर लगाई गई हैं
- स्वर्ण द्वार पर सबसे ऊपर स्वर्ण जड़ित छत्र
- 3 स्वर्ण गुम्बद
- 2 शेर सबसे नीचे बने हैं
- स्वर्ण द्वार पर दोनों तरफ देवी देवताओं के चित्र और माता की आरती अंकित हैं

vaishno_devi_bhavan.jpg

मोदी सरकार का बड़ा फैसला, घाटी में खुलेंगे 50 हजार मंदिर

इस स्वर्णिम प्रवेश द्वार में विभिन्न देवी-देवताओं के चित्र अंकित है।

मां वैष्णो देवी के इस स्वर्णिम प्रवेश द्वार पर गुबंद के साथ ही 3 सोने के झंडे और विशाल स्वर्णयुक्त छत्तर है, तो वहीं मां वैष्णो देवी के नौ रूपी स्वर्ण युक्त चित्र अंकित किए गए हैं।

इनमें मां दुर्गा के 9 रूपों (शैलपुत्री, चंद्रघंटा, कूषमांडा, स्कंदमाता, कात्यायानी, महागौरी, सिद्धिदात्री, कालरात्रि, ब्रह्मचारिणी) को दर्शाया गया है।

वहीं प्रवेश द्वार के दाएं तरफ महालक्ष्मी का करीब 6 फीट लंबा स्वर्णयुक्त चित्र अंकित है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned