कर्नाटक चुनाव: बीजेपी-कांग्रेस की लिस्ट में भाई भतीजावाद और दागियों को जगह

कर्नाटक चुनाव: बीजेपी-कांग्रेस की लिस्ट में भाई भतीजावाद और दागियों को जगह

बीजेपी कांग्रेस की लिस्ट में भाई भतीजावाद और दागियों को जगह मिली है। ऐसे में दोनों ही पार्टियां सवालों के घेरे में है।

नई दिल्ली: कर्नाटक विधानसभा चुनाव को मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस ने उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी है। कांग्रेस ने जहां 218 प्रत्याशियों को टिकट दिए हैं। वहीं बीजेपी ने 154 उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है। लेकिन दोनों पार्टियों की लिस्ट में भाई भतीजावाद और दागियों को जगह मिली है। ऐसे में दोनों ही पार्टियां सवालों के घेरे में है। खासकर बीजेपी पर टिकट बंटवारे में दल बदलू नेताओं को भी टिकट देने का आरोप है। वहीं करप्शन पर पीएम मोदी के जीरो टॉलरेंस की नीति पर सवाल खड़े हो रहे हैं। दरअसल दूसरी लिस्ट में बीजेपी ने 82 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया। वहीं बीजेपी सरकार में खनन घोटाले के आरोपी रहे मंत्री जी जनार्दन रेड्डी के भाई सोमशेखर रेड्डी को बेल्लारी सिटी से टिकट दिया गया है। वहीं भ्रष्टाचार केस में आरोपी दो पूर्व विधायकों को भी बीजेपी ने उम्मीदवार बनाया है।

12 मई को कर्नाटक में चुनाव

गौरतलब है कि 9 अप्रैल को बीजेपी ने पहली लिस्ट जारी की थी। पहली लिस्ट में ही सीएम कैंडिडेंट बीएस येदियुरप्पा को भी जगह दी गई थी। वो शिकारीपुरा सीट से चुनाव लड़ेंगे। गौरतलब है कि कर्नाटक में 12 मई को वोट डाले जाएंगे। वहीं 15 मई को मतगणना होगी।

बीजेपी की पहली लिस्ट में दल-बदलू नेताओं का प्रभाव

जैसा कि पिछले काफी महीनों से ये देखने को मिल रहा है कि भाजपा कर्नाटक के चुनाव को किसी भी कीमत पर हल्के में नहीं लेना चाहती है, वो टिकट बंटवारे में देखने को भी मिला है। चुनाव की तारीखों का ऐलान होने से कई महीनों पहले ही बीजेपी ने प्रचार शुरू कर दिया था। बीजेपी की पहली लिस्ट में दूसरी पार्टी से भी आए नेताओं का खूब ध्यान रखा गया है। 72 उम्मीदवारों की लिस्ट में 11 कैंडिडेट का नाम ऐसा है, जिन्होंने हाल ही में भाजपा जॉइन की है। काफी लोग ऐसे भी हैं, जिन्होंने पहले भाजपा छोड़ दी थी और अब वो फिर से बीजेपी में आकर उम्मीदवार बन गए हैं। इन उम्मीदवारों को टिकट दिए जाने से पार्टी में मतभेद भी पैदा हो सकते हैं।

 

Ad Block is Banned