#KarSalaam: सेना के खौंफ से थर्र-थर्र कांप रही थी पाक की धरती, हुकुमत के हलक में अटक गया था निवाला

भारतीय सेना के करीब 5 लाख सैनिक बॉर्डर पर तैनात कर दिए गए थे। इसके साथ ही भारी मात्रा में असलाह-बारूद भी बॉर्डर पर भेज दिए गए थे।

By:

Published: 15 Jan 2018, 08:03 PM IST

नई दिल्ली। साल 2001 का दिन था, जगह था दिल्ली का संसद भवन। जी हां, ये वही जगह है जहां देश भर के कुल 545 सांसद बैठते हैं। 13 दिसंबर के दिन लश्कर-ए-तैयबा के कुछ आतंकवादियों ने देश की संसद पर हमला कर दिया था। इस हमले ने जहां पूरे देश को हिलाकर रख दिया था तो वहीं पूरी दुनियाभर के संसदों की सुरक्षा को काफी बढ़ा दिया गया था।

इस हमले के बाद भारत-पाक के रिश्तों में काफी तनाव आ गया था। लिहाज़ा भारत-पाक सीमा पर लगातार 8 महीनों तक ज़बरदस्त लड़ाई का माहौल बना रहा। इस हमले के बाद सेना ने ऑपरेशन पराक्रम को लॉन्च कर दिया। ये वो वक्त था जब कारगिल की लड़ाई के महज़ 2.5 साल बाद फिर से भारत-पाक में भयंकर जंग की स्थिती बन गई थी। हमले के ठीक 2 दिन बाद 15 तारीख को लॉन्च किए गए ऑपरेशन पराक्रम में बड़े पैमाने पर सेना के जवानों को पाक की सीमा से लगे इलाकों में भेजा गया।

बता दें कि इस ऑपरेशन की लॉन्चिंग का फैसला कैबिनेट कमेटी की हुई एक अहम मीटिंग के बाद लिया गया था। करीब 10 महीने के बाद 16 अक्टूबर 2002 को ऑपरेशन पराक्रम खत्म हुआ। ये वो दौर था जब पाकिस्तान के लोग एक बार फिर से भारत के जवाब से घबराने लगे थे। भारत के गुस्से को देखते हुए बिना भूकंप के ही पाकिस्तान की धरती थर्र-थर्र कांपने लगी थी। उस वक्त हमारी सेना पाक पर हमला करने के लिए बिल्कुल तैयार थी और साथ मज़बूत भी थी। रक्षा जानकार बताते हैं कि उस वक्त भारत की सेना बड़ी ही आसानी से पाकिस्तान में प्रवेश कर वहां तबाही मचा सकती थी।

इन 10 महीनों में भारतीय सेना के करीब 5 लाख सैनिक बॉर्डर पर तैनात कर दिए गए थे। इसके साथ ही भारी मात्रा में असलाह-बारूद भी बॉर्डर पर भेज दिए गए थे। सेना ने पाकिस्तान को नेस्तनाबूद करने की पूरी तैयारियां कर ली थीं। इसलिए बॉर्डर पर सेना के सभी शक्तिशाली मिसाइलों को भी पोज़िशन दे दी गई थी। भारतीय सेना की गतिविधियों को देखकर पाकिस्तानी हुकुमत के हलक से खाने का एक निवाला भी नीचे नहीं उतर रहा था।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned