कश्मीर: कुलगाम मेें सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में हिज्बुल के दो आतंकी ढेर

रविवार देर रात हुई इस मुठभेड़ में सयार अहमद वानी और दाऊद अहम वानी नाम के दो आतंकी मारे गए हैं।

नई दिल्ली। कश्मीर स्थित कुलगाम में मुठभेड़ के दौरान सुरक्षा बलों ने दो आतंकियों को मार गिराया है। दोनों ही आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिद्दीन के सदस्य बताए जा रहे हैं। सुरक्षा बलों ने इस कार्रवाई को अंजाम दक्षिणी कश्मीर के खुदवानी कुलगाम में दिया। रविवार देर रात हुई इस मुठभेड़ में सयार अहमद वानी और दाऊद अहम वानी नाम के दो आतंकी मारे गए हैं।

रात 2:30 बजे शुरू हुआ ऑपरेशन

सुरक्षा बलों की ओर से इस कार्रवाई को अंजाम रविवार को देर रात तकरीबन 02.30 बजे दिया गया। इस दौरान 18 बटालियन सीआरपीएफ, 1 आरआर और जम्मू कश्मीर पुलिस मौके पर पहुंची। जिसके बाद पुलिस की चेतावनी पर आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी। वहीं सुरक्षा बलों की ओर से की गई जवाबी कार्रवाई में दो आतंकी ढेर हो गए। वहीं इससे पहले रात साढ़े ग्यारह बजे से ही सुरक्षा बलों ने इलाके में सर्च अभियान शुरू किया था.गिरफ्तार आतंकी की पहचान आरिफ सोनी के रूप में हुई है। इनके पास से एक एके-47 और 1 इंसास राइफल बरामद हुई है। 

एक आतंकी ने किया था आत्मसमर्पण

आपको बता दें कि शनिवार को दक्षिणी कश्मीर के ही शोपियां में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ के दौरान एक आतंकी ने आत्मसमर्पण कर दिया। हालांकि आतंकी द्वारा किया गया समर्पण सुरक्षा बलों के हाथ एक बड़ी उपलब्धि है। पिछले कुछ महीनों में यह पहली घटना है, जब किसी आतंकी ने आत्मसमर्पण किया हो। पुलिस सूत्रों के मुताबिक आतंकी की पहचान आदिल के रूप में की गई है, वह इस साल मई में आतंकवादी गतिविधियों में शामिल हुआ था। उसने चारों ओर से घेर लिए जाने के बाद आत्मसमर्पण कर दिया। हालांकि पुलिस ने आश्वासन दिया है कि उसे मारा नहीं जाएगा। मुठभेड़ स्थल से एक और आतंकवादी का शव बरामद हुआ है जिसकी पहचान तारिक अहमद डार के रूप में हुई है। उन्होंने बताया कि डार कई आतंकवादी गतिविधियों में शामिल था। जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक एस पी वैद्य ने पहले कहा था कि जिन लोगों ने हथियार उठाए हैं, वह आत्मसमर्पण कर सकते हैं और सरकार उनके मामलों पर विचार करेगी।

Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned