केरल: एक नाटक में लड़की ने पढ़ी नमाज तो विरोध में सड़क पर उतरा मुसलिम समुदाय

केरल में एक लड़की को अजान पढ़ने के कारण मुस्लिम समुदाय के लोगों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है।

कोझीकोड। केरल के कोझीकोड से एक ऐसा वाकया सामने आया है जो बेहद ही शर्मिंदा करने वाला है। जहां एक और हम समाज में महिला-पुरुष की बराबरी की बात करते हैं तो वहीं कुछ मामलों में आज भी रूढ़ीवादिता देखने को मिलती है। कुछ ऐसा ही मामला केरल के कोझीकोड में घटी है जहां पर एक लड़की को सिर्फ इसलिए विरोध का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि उसने एक पुरुष की तरह बनने का प्रयास किया। समाज में बराबरी के भाव को फैलाने का प्रयास किया।

क्या है पूरा मामला

आपको बता दें कि केरल के कोझीकोड में मुस्लिम समुदाय ने एक स्कूल के सामने विरोध प्रदर्शन किया। यह प्रदर्शन स्कूल में एक नाटक का मंचन के खिलाफ कर रहे थे, जिसमें एक लड़की ने अज़ान पढ़ा था। मुस्लिम समुदाय के लोगों का कहना था कि अजान केवल पुरुष मुकरी या फिर मुएज्जिन के द्वारा ही पढ़ा जाता है। प्रदर्शनकारियों का कहना था कि नाटक के जरिए हमारी धार्मिक भावनाओं और रहन सहन को अपमानित किया गया है। बता दें कि नाटक का आयोजन मेमूंडा हायर सेकेंडरी स्कूल के छात्रों ने किया था। नाटक लेखक आर उन्नी की कहानी पर आधारित थी जिसे बुधवार को वाडकरा में जिला स्कूल आर्ट फेस्टिवल में किया गया था। नाटक में दिखाया गया था कि एक लड़की जो कि मुकरी की बेटी है, अपने पिता की तरह ही अजान पढ़ना चाहती है। लेकिन पहले उसे मना कर दिया जाता है। हालांकि बाद में उसे इजाजत मिल जाती है।

दुर्गा पंडालों को 28 करोड़ देने के विरोध में ममता बनर्जी के खिलाफ सड़कों पर उतरा मुस्लिम समुदाय

एसडीपीआई के सदस्यों ने किया प्रदर्शन

आपको बता दें कि एक नाटक में लड़की के द्वारा अजान पढ़े जाने के खिलाफ सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) के सदस्यों ने जमकर प्रदर्शन किया। एसडीपीआई के सदस्य और स्थानीय नेता सलीम पी अझियुर ने आरोप लगाते हुए कहा कि मेमुंडा स्कूल का प्रबंधन सीपीएम के हाथों में है और इस नाटक में पार्टी का एजेंडा बिल्कुल साफ है। इस तरह के आयोजन और नाटक मंचन से मुस्लिम समुदाय में गलत संदेश जाएगा। दूसरी तरफ स्कूल के एक शिक्षक का कहना है कि इस नाटक के जरिए जेंडर मामलों को लेकर कई सवाल खड़े किए गए हैं जो कि तर्क संगत है। बता दें कि यह कोई पहला अवसर नहीं है जब इस तरह के विरोध देखने को मिला हो। इससे पहले कई अवसर आए हैं जब अलग-अलग समुदाय नाटक और फिल्म में दिखाए गए मुद्दों पर नाराजी प्रकट करते हुए प्रदर्शन किया है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned