15 साल पहले रेप मामले में हुई थी फांसी, सैंकड़ों पीड़ित न्याय की आस में कर रहे हैं इंतजार

  • आखिरी बार भारत में 2004 में फांसी हुई थी
  • कोलकाता के रहने वाले धनंजय चटर्जी को दी गई थी सजा

नई दिल्ली। हैदराबाद की महिला डॉक्टर के साथ रेप और फिर हत्या मामले में चारों आरोपियों को तेलंगाना पुलिस ने शुक्रवार तड़के एनकाउंटर में मार गिराया। जिसके बाद से देशभर में एक नई बहस छिड़ गई। कुछ लोग एनकाउंटर के समर्थन में हैं तो कुछ लोग इसका विरोध कर रहे हैं।

न्यायिक प्रक्रिया में देरी की वजह से देशभर में लोग मांग कर रहे थे कि दोषियों को तत्काल फांसी दी जाए। बता दें कि किसी भी अपराधी को फांसी देने की प्रक्रिया हमारे न्यायिक व्यवस्था में बहुत ही जटिल है।

हैदराबाद एनकाउंटरः शायद पहली बार देश में जिंदा पुलिसकर्मियों पर बरसाए गए हैं फूल

लिहाजा सालों साल तक रेप या अन्य मामलों में फांसी की सजा पाए लोग जेल में बंद रहते हैं और पीड़ित परिवार या पीड़ित न्याय की आस में इंतजार करते रहते हैं। यही कारण है कि भारत में रेप के मामले में आज से 15 साल पहले फांसी हुई थी।

2004 में हुई थी आखिरी फांसी

आपको बता दें कि रेप मामले में सैंकड़ों ऐसे केस कोर्ट में पेंडिंग है, जिनकी सुनवाई नहीं हो सकी है। आखिरी बार भारत में 2004 में फांसी हुई थी। कोलकाता के रहने वाले धनंजय चटर्जी पर आरोप था कि उन्होंने 14 साल की एक नाबालिग के साथ दरिंदगी कर उसकी हत्या कर दी।

इस मामले से पूरे देश में उबाल आ गया। कोर्ट में सुनवाई के बाद 14 अगस्त 2004 को कोलकाता के अलीपोर सेंट्रल जेल में उसे फांसी दे दी गई थी। सबसे बड़ी और इत्तेफाक की बात यह है कि उसी दिन उसका जन्मदिन भी था। बता दें कि 1991 के बाद पश्चिम बंगाल में यह पहली फांसी थी।

हैदराबाद एनकाउंटर: तेलंगाना पुलिस का बड़ा खुलासा, सरेंडर को तैयार नहीं थे आरोपी

गौरतलब है कि 2017 में देशभर में अलग-अलग मामलों में 109 लोगों को फांसी की सजा सुनाई गई थी। इनमें से 43 मामले यानी 39 फीसदी मामले दुष्कर्म से संबंधित है। जबकि इससे पहले 2016 में 24 लोगों को रेप मामले में फांसी की सजा सुनाई गई है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned