अरब सागर में कम दबाब के चलते गोवा में भारी बारिश और तेज हवाएं, कई इलाकों में बाढ़

  • IMD के मुताबिक बीते 24 घंटों के भीतर गोवा में 74 मिमी Rainfall
  • मौसम विभाग पहले ही दे चुका है Cyclone Nisarga की चेतावनी।
  • Goa की तटीय सीमा समेत तमाम इलाकों में Red Flag लगाए गए।

पणजी। चक्रवाती तूफान निसर्ग ( Cyclone Nisarga ) की चेतावनी के बीच अरब सागर ( Arabian Sea ) में बुधवार सुबह कम दबाव का क्षेत्र ( Low Pressure Area ) बनने के कारण गोवा ( Goa ) में भारी बारिश ( Heavy Rain ) और तेज हवाएं चलीं। इसके चलते तटीय राज्य ( Coastal state ) के कुछ निचले हिस्सों में बाढ़ ( Flood ) भी आ गई। समुद्र में उथल-पुथल होने के साथ भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ( Indian Met Department ) ने मछुआरों को पानी में नहीं उतरने की चेतावनी दी है।

लॉकडाउन के बीच सख्त पाबंदियों के साथ चारधाम यात्रा की होने जा रही है शुरुआत, कौन जा सकेगा और कौन नहीं

वहीं, गोवा सरकार ( Goa Govt ) द्वारा नियुक्त लाइफगार्ड एजेंसी दृष्टि ( Drishti ) ने भी लोगों से समुद्र में न जाने की अपील की है। इसके साथ ही राज्य की 105 किलोमीटर लंबी तटीय सीमा के साथ अधिकांश स्थानों पर लाल झंडे लगाए गए हैं।

आईएमडी ( IMD ) ने मंगलवार शाम को कहा, "अगले 24 घंटों के दौरान पूर्व-मध्य अरब सागर और कर्नाटक-गोवा तटों पर 50-60 किमी प्रति घंटे की गति से हवा चलने और 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने की संभावना है। भारी वर्षा के बाद राज्य के कई निचले इलाकों में बुधवार को बाढ़ आ गई।"

मौसम विभाग के मुताबिक मंगलवार सुबह 8.30 बजे से लेकर बुधवार सुबह 6.30 बजे तक गोवा में 74 मिमी, रत्नागिरी में 20 मिमी, हरनाई में 13 मिमी, कोलाबा में 37, सांताक्रूज़ में 21 और दहानू में 04 मिमी बारिश दर्ज की गई।

गोवा पुलिस ( Goa Police ) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "कई सड़कों में पानी भर गया है। सड़कों पर ट्रैफिक बहुत कम है क्योंकि लोग घर के अंदर रह रहे हैं।" पणजी ( Panji ) के शहर के मेयर उदय मडिक्कर ने कहा कि बारिश के आगमन को देखते हुए लॉकडाउन ( Covid-19 Lockdown in india ) के दौरान भी प्री-मॉनसून को लेकर काम शुरू किया गया था।

वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी, इस बार कोरोना वायरस महामारी के बीच मानसून लाने वाला है बड़ी परेशानी

उन्होंने कहा, "हम आज स्थिति की समीक्षा करेंगे। हमारे कर्मचारी पहले से ही ड्यूटी पर है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि बाढ़ कम हो। मौसम अधिकारियों के अनुसार बुधवार को अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र चक्रवाती तूफान 'निसर्ग' में तेजी लाने के लिए तैयार है, जो उत्तर महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात को पार करने के लिए तैयार है।"

आईएमडी गोवा के वरिष्ठ वैज्ञानिक राहुल मोहन ने मंगलवार को कहा, दक्षिण पश्चिम मानसून जो पहले से ही सोमवार को केरल में पहुंच चुका था, आगामी 6 जून तक गोवा पहुंच जाएगा। उन्होंने आगे कहा, "मानसून अरब सागर में कम दबाव प्रणाली के बाद ही आगे बढ़ेगा और 5 जून तक पहुंच सकता है।"

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned