न सैलरी और न ही कोई पेंशन, फिर भी ममता बनर्जी ने राहत कोष में दिए 10 लाख रुपए

  • कोरोना वायरस ( coronavirus ) के खिलाफ जंग जारी
  • ममता बनर्जी ( Mamata banerjee ) ने पीएम और राज्य आपदा कोष में दिए पांच-पांच लाख रुपए
  • पश्चिम बंगाल ( West Bengal ) में भी तेजी से बढ़ रहा है कोरोना वायरस का प्रकोप

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ( coronavirus ) का खौफ काफी तेजी से बढ़ रहा है। भारत ( India ) में इस वायरस की चपेट में 1400 से ज्यादा लोग आ चुके हैं और अब तक 38 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए केंद्र और राज्य की सरकार से लेकर हर कोई अपना योगदान दे रहा है। राजनीतिक दलों के नेता भी इस लड़ाई के खिलाफ एकजुट हो रहे हैं। इसी कड़ी में पश्चिम बंगाल ( West Bengal ) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ( Mamata Banerjee ) ने प्रधानमंत्री राहत कोष और राज्य आपदा कोष में पांच-पांच लाख रुपए दिए हैं।

सबसे बड़ी बात यह है कि ममता बनर्जी ने तो सैलरी लेती हैं और न ही किसी तरह की कोई पेंशन। इसके बावजूद उन्होंने जो पैसे अपने पास जोड़कर रखे थे, उसमें से उन्होंने दान किए हैं। ममता बनर्जी ने ट्वीट करते लिखा कि मैं अपने सीमित संसाधनों में से ही प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष (पीएम-केअर्स) में पांच लाख रुपये और राज्य आपात राहत कोष में पांच लाख रुपए का योगदान दे रही हूं। उन्होंने कहा कि उनकी कमाई का मुख्य स्रोत उनके रचनात्मक कार्य हैं। उन्हें किताबों और म्यूजिक की रॉयल्टी से जो पैसे मिलते हैं, वही उनकी कमाई का जरिया है।

ममता बनर्जी ने कहा है कि कोरोना वायरस के खिलाफ देश की जंग में वह अपनी तरफ से 10 लाख का योगदान दे रही हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि वो विधायक या मुख्यमंत्री के रूप में कोई सैलरी नहीं लेती और सात बार सांसद रहने के बावजूद पेंशन नहीं लिया। गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में भी कोरोना वायरस का मामला काफी तेजी से बढ़ रहा है। राज्य में अब तक 25 से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, जबकि चार लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना वायरस से लड़ाई में सरकार को आर्थिक मदद के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी एक बैंक अकाउंट नंबर जारी कर चुकी हैं। ममता ने कहा था कि कोरोना की वजह से लॉक डाउन है और व्यवसाय बंद है, ऐसी परिस्थितियों में राज्य के खजाने पर दबाव बढ़ गया है। लिहाजा, उन्होंने लोगों से अपील की है कि मदद के लिए वो आगे आएं।

Show More
Kaushlendra Pathak Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned