ममता सरकार का बड़ा फैसला, रिहा किए जाएंगे 3000 से ज्यादा कैदी, सोशल डिस्टेंसिंग मापदंडों का होगा पालन

  • Coronvirus के बढ़ते खतरे के बीच Mamata Govt का बड़ा फैसला
  • प्रदेश की 60 जेलों से रिहा किए जाएंगे 3 हजार से ज्यादा कैदी
  • सोशल डिस्टेंसिंग के मापदंडों का किया जाएगा पालन

नई दिल्ली। कोरोनावयारस ( coronavirus ) का खतरा लगातार देशभर में बढ़ रहा है। देश में अब तक कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 1200 के पार पहुंच चुकी है। देश में कोरोना वायरस के सामुदायिक फैलाव ( Community transmission ) को रोकने के लिए 21 दिन का लॉकडाउन किया गया है। बुधवार को इस लॉकडाउन का 8वां दिन है। लॉकडाउन ( Lock down ) के बीच केंद्र सरकार ( Central Govt ) से लेकर राज्य सरकार इस जानलेवा वायरस से निपटने में जुटी हैं।

इस बीच पश्चिम बंगाल ( West Bengal ) सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ( CM Mamata banerjee ) ने कहा है कि वायरस के सामुदायिक फैलाव को रोकने के लिए प्रदेश की जेलों से 3000 से ज्यादा कैदियों को रिहा किया जाएगा।

देश में सुरक्षा उपकरणों की भारी किल्लत के बाद भी सरकार कर रही निर्यात

कोरोना संक्रमण के बीच ममता सरकार प्रदेश की जेलों से 3,000 से अधिक विचाराधीन और सजाकाट रहे कैदियों को रिहा करने जा रही है।

प्रदेश में कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद विभिन्न जेलों में बंद कैदियों को सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशों के मुताबिक रिहा किया जा रहा है।

60 जेलों के 3,076 कैदियों को मुक्य करने का काम शुरू किया जा चुका है। जेल मंत्री ने कहा कि देश में चल रहे लॉकडाउन को ध्यान में रखते हुए जेल प्रशासन ने सोशल डिस्टेंसिंग के मानदंडों का पालन कर उन लोगों को अपने-अपने घर भेजा जा रहा है।

पंजाब की गलियों में निकले सफाईकर्मी तो लोगों ने बरसाए फूल, पहनाई नोटों की माला

आपको बता दें कि रिहा किए जाने वाले कैदियों में 2059 विचाराधीन कैदी शामिल हैं। जिन्हें अंतरिम जमानत दी गई है। इसके अलावा सजाकाट रहे 1,017 कैदियों को तीन महीने के पैरोल पर भी मुक्त किया जा रहा है।

सोशल डिस्टेंसिंग के मापदंडों का पालन
जेलों में जिस संख्या में कैदी बंद हैं ऐसे में वहां सोशल डिस्टेंसिंग के मानदंडों का पालन कराना असंभव कार्य है। क्योंकि एक-एक जेल में 2000 कैदी है। यही वजह है कि कैदियों को रिहा किया जा रहा है। अगले चार-पांच दिनों के भीतर सभी कैदियों को घर तक पहुंचा दिया जाएगा।

Show More
धीरज शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned