GF से मिलने के लिए Quarantine सेंटर से भागे दो युवक, फिर गांजा और शराब के साथ लौटे

  • Manipur: तामेंगलांग ( Tamenglong ) क्वारंटाइन सेंटर से भागे दो युवक
  • Girlfriend से मिलने के लिए चुपके से भागे थे दोनों युवक
  • Quarantine सेंटर लौटे तो अपने साथ शराब, सिगरेट और गांजा लेकर आए

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ( coronavirus ) को लेकर पूरे देश में लॉकडाउन ( Lockdown ) लागू है। इस महामारी को रोकने और फैलने से रोकने के लिए क्वारंटाइन ( Quarantine ) सेंटर बनाए गए हैं। कोरोना संदिग्धों और बाहर से आए लोगों को इन क्वारंटाइन सेंटर में रखा जा रहा है। क्वारंटाइन सेंटर में लोगों के नाचने, क्रिकेट खेलने की खबरें तो आपने खून सुनी। लेकिन, नार्थ-ईस्ट ( North-East ) के राज्य मणिपुर ( Manipur ) में क्वारंटाइन सेंटर से ऐसा मामला आया है, जो चर्चा का विषय बन चुका है। इतना नहीं इस मामले से लोग काफी हैरान भी हैं। यहां अपनी गर्लफ्रेंड ( GirlFriend ) से मिलने के लिए क्वारंटाइन सेंटर से दो लड़के पहले भाग गए, फिर जब लौट तो ढेर सारा सिगरेट ( Cigarette), गांजा ( Ganja ) और शराब ( Liquor ) अपने साथ लेकर आए।

GF से मिलने के लिए क्वारंटाइन सेंटर से भागे दो युवक

जानकारी के मुताबिक, तामेंगलांग ( Tamenglong ) क्वारंटाइन सेंटर से दो युवक अपनी गर्लफ्रेंड से मिलने के लिए चुपके से फरार हो गए। लेकिन, जब वापस लौटे तो अपने साथ गांजा, शराब और सिगरेट लेते आए और क्वारंटाइन सेंटर के अंदर उसे बेचने लगे। तामेंगलांग के डिप्टी कमिश्नर ( Deputy Commissioner ) ने अपने पोस्ट में लिखा कि ये दोनों क्वारंटाइन से कब भागे और कब वापस आए, इसकी भनक तक किसी को नहीं लगी। उन्होंने बताया कि मामले का खुलासा उस वक्त हुआ, जब दोनों नशे का सामान बेचते पकड़े गए।

प्रशासन को सताने लगी चिंता

बताया जा रहा है कि दोनों से जब इस मामले में पूछताछ की गई तो सारी सच्चाई सामने आ गई। डिप्टी कमिश्नर ने लिखा कि दोनों युवकों ने बताया कि अपनी गर्लफ्रेंड से मिलने के लिए वे क्वारंटाइन सेंटर से भागे थे। वापस लौटने के वक्त वे अपने साथ 8 लीटर देसी शराब, चार पैकेट गांजा और सिगरेट ले आए और क्वारंटाइन सेंटर में उसे बेच रहे थे। वहीं, डीएम ( DM ) आर्मस्ट्रांग पाम ( Armstrong Pame ) का कहना है कि इस तरह के लोगों से निपटना हमारे लिए काफी चुनौती बनता जा रहा है। सच्चाई सामने आने के बाद पहले दोनों को जेल भेजने की तैयारी थी, लेकिन कोरोना महामारी के कारण इन्हें जेल नहीं भेजा जा सकता है। उन्होंने कहा कि इन गुनहगारों की किस तरह की सजा दी जाए ये समझ नहीं आ रहा है। फिलहाल, पूरे मामले की छानबीन की जा रही है।

Kaushlendra Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned