Delhi के शिक्षा मंत्री सिसोदिया ने कहा- Lockdown में 9 लाख छात्र ऑनलाइन क्लास में हुए शामिल

  • Lockdown: Delhi में सरकारी स्कूली बच्चों के लिए ऑनलाइन क्लास ( Online Classes )
  • 9 लाख छात्र-छात्रों ने लिया हिस्सा
  • नर्सरी ( Nursery ) से 12वीं तक के छात्रों ने की ऑनलाइन पढ़ाई

नई दिल्ली। coronavirus को लेकर पूरे देश में 25 मार्च से लॉकडाउन ( Lockdown ) लागू है। वहीं, इस महामारी से बचने और उसकी चेन को तोड़ने के लिए देश में लॉकडाउन 5.0 ( Lockdown 5.0 ) की घोषणा हो चुकी है। लॉकडाउन के दौरान देश में तकरीबन सबकुछ बंद था। हालांकि, इस बार काफी ढील दी गई है और चरणबद्ध तरीकों से चीजों को खोला जाएगा। इसी कड़ी में दिल्ली ( Delhi ) के शिक्षा मंत्री ( Education Minister ) मनीष सिसोदिया ( manish sisodia ) ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान सरकारी स्कूलों ( Government School ) के नौ लाख छात्रों ने ऑनलाइन कक्षाओं ( Online Classes ) में हिस्सा लिया।

नर्सरी से 12वीं तक के छात्रों ने की ऑनलाइन पढ़ाई

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ( Manish Sisodia On Online Classes ) ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान दिल्ली सरकार ( Delhi Government ) ने सरकारी स्कूलों के केजी से लेकर 12वीं तक के छात्रों के लिए ऑनलाइन क्लास शुरू की थी, जिसमें 9 लाख छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया था। फिलहाल, इन कक्षाओं को रविवार को खत्म कर दिया गया है। सिसोदिया ने कहा कि ऑलाइन क्लास के दौरान छात्रों ने SMS/IVR लर्निंग सिस्टम का लाभ उठाया। कक्षा खत्म होने से पहले सिसोदिया ने शिक्षा निदेशक विनय भूषण, ऑनलाइन कक्षा में हिस्सा लिए छात्र, अभिभावक समेत कई अन्य अधिकारियों के साथ समीक्षा की। सिसोदिया ने कहा कि यह प्रयोग चुनौती भरा था। डिजिटल टेक्निक की मदद से ऑनलाइन क्लास शुरू करना काफी चुनौतीपूर्ण था। लेकिन, काफी हद तक यह सफल रहा। लिहाजा, अब शिक्षा और अनुभवों की समीक्षा करना जरूरी है।

10 घंटे से ज्यादा हुई पढ़ाई

वहीं, शिक्षा निदेशक विनय भूषण ( Vinay Bhushan ) ने कहा कि दोबारा स्कूल खुलने और छात्रों के वापस आने तक निदेशालय छात्रों के हर हफ्ते ट्रैकिंग करने की योजना पर काम कर रहा है। लॉकडाउन के दौरान छात्रों को कई तरह की शिक्षाएं दी गई है। इनमें व्यक्तित्व विकास, डिजिटल उद्यमशीलता के साथ माता-पिता के जरिए SMS और IVMR आधारित गतिविधियों का भी आयोजन किया गया। बताया जा रहा है कि इस ऑनलाइन कक्षा में 85 फीसदी छात्र पंजीकृत थे। शिक्षा निदेशालय का ये भी कहना है कि सामान्य कक्षाओं की उपेक्षा 10 घंटे से भी ज्यादा की पढ़ाई हुई है।

manish sisodia coronavirus COVID-19
Show More
Kaushlendra Pathak Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned