scriptMartyred Bhagat singh contribution in Independence of India | Independence Day 2021: देश की आजादी में शहीद Bhagat Singh ने दिया अहम योगदान, ऐसे हिलाई थी अंग्रेजी हुकूमत की जड़ें | Patrika News

Independence Day 2021: देश की आजादी में शहीद Bhagat Singh ने दिया अहम योगदान, ऐसे हिलाई थी अंग्रेजी हुकूमत की जड़ें

Independence Day 2021: देश की आजादी के लिए शहीद Bhagat Singh महज 23 वर्ष की उम्र में भगत सिंह हंसते हुए फांसी के फंदे पर झूल गए थे।

नई दिल्ली

Updated: August 14, 2021 03:36:15 pm

Independence Day 2021: नई दिल्ली। पूरा देश 75वां स्वतंत्रता दिवस ( Independence Day Celebration ) मना रहा है। अंग्रेजों की 200 वर्ष की गुलामी के बाद भारत ने 15 अगस्त ( 15 August 1947 ) 1947 को आजादी का स्वाद चखा। ये आजादी इतनी आसान नहीं थी। इसके पीछे था उन वीर सपूतों का योगदान जिन्होंने हंसते-हंसते देश की आजादी के लिए अपने प्राणों का बलिदान दे दिया। ऐसे ही वीर सपूतों में से एक नाम है शहीद भगत सिंह ( Bhagat Singh )।
Bhagat Singh  75th independence day 2021
यह भी पढ़ें

75th Independence Day विजयी विश्व तिरंगा प्यारा.. झंडा ऊंचा रहे हमारा, जानिए इससे जुड़ी कुछ खास बातें

देश में जब भी आजादी का जिक्र होगा शहीद-ए-आजम भगत सिंह का नाम खुद ब खुद सामने आ जाएगा। आजादी के इस परवाने ने ना सिर्फ अपने प्राणों का बलिदान दिया बल्कि देश के लाखों युवाओं में आजादी का वो जज्बा पैदा किया जो अब भी नौजवानों की रगों में दौड़ता है।
यह भी पढ़ें

Independence Day 2021: ओलंपिक्स में भारत ने आज़ादी से पहले भी जीते हैं मेडल, जानिए 1947 से पहले और बाद की विजय गाथा

75th independence day 2021 bhagat_singh

75th independence day 2021: ऐसा था भगत सिंह का जीवन

28 सितम्बर 1907 को देश में एक वीर का जन्म हुआ, जिसका नाम था भगत सिंह। उस समय उनके चाचा अजीत सिंह और श्‍वान सिंह भारत की आजादी में अपना सहयोग दे रहे थे। ये दोनों करतार सिंह सराभा द्वारा संचालित गदर पाटी के सदस्‍य थे। भगत सिंह पर इन दोनों का गहरा प्रभाव पड़ा था। इसलिए ये बचपन से ही अंग्रेजों से घृणा करने लगे थे।
13 अप्रैल 1919 को जलियांवाला बाग हत्याकांड ने भगत सिंह के बाल मन पर बड़ा गहरा प्रभाव डाला।
लाहौर के नेशनल कॉलेज़ की पढ़ाई छोड़कर भगत सिंह ने 1920 में भगत सिंह महात्‍मा गांधी द्वारा चलाए जा रहे अहिंसा आंदोलन में भाग लेने लगे, जिसमें गांधी जी विदेशी समानों का बहिष्कार कर रहे थे।
यह भी पढ़ें

Independence Day 2021 : भारत को कैसे मिली आजादी, जानिए स्वतंत्रता दिवस का इतिहास

महज चौदह वर्ष की उम्र में भगत सिंह ने स्कूल की किताबें और कपड़े जला दिए थे। 1921 में महात्मा गांधी ने चौरा चौरा हत्याकांड में जब किसानों का साथ नहीं दिया तो इस घटना का भगत सिंह पर गहरा प्रभाव पड़ा।
भगत सिंह ने अंग्रेजों के खिलाफ आंदोलन शुरू कर दिया। 9 अगस्त, 1925 को शाहजहांपुर से लखनऊ के लिए चली 8 नंबर डाउन पैसेंजर से काकोरी नामक छोटे से स्टेशन पर सरकारी खजाने को लूट लिया।

भगत सिंह ने अपने देश की आजादी के लिए कई योगदान दिए हैं। यहां तक की उन्होंने शादी के लिए मना करते हुए यह कह दिया कि 'अगर आजादी से पहले मैं शादी करूंगा तो मेरी दुल्हन मौत होगी।'
वो भगत सिंह ही थे जिन्होंने देश की आजादी के लिए हंसते-हंसते फांसी के फंदे पर झूलना कबूल कर लिया था लेकिन अंग्रेजों की शर्तों को मानना मंजूर नहीं था।

भगत सिंह भारत के एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी थे। चन्द्रशेखर आजाद व पार्टी के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर इन्होंने देश की आजादी के लिए अभूतपूर्व साहस के साथ शक्तिशाली ब्रिटिश सरकार का मुकाबला किया।
वर्ष 1926 में नौजवान भारत सभा भगत सिंह को सेक्रेटरी बना दिया गया। इसके बाद सन् 1928 में उन्होने हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन (HSRA) को ज्वाइन किया। ये चन्द्रशेखर आजाद ने बनाया था और पूरी पार्टी ने जुट कर 30 अक्टूबर 1928 को भारत में आए साइमन कमीशन का विरोध किया।
इस विरोध में लाला लाजपत राय भी शामिल थे। लेकिन अंग्रेजों की लाठीचार्ज में लाला लाजपत राय की मृत्य हो गई और इसने भगत सिंह को हिला कर रख दिया।
भगत सिंह ने ठान लिया कि अंग्रेजों को इसका जवाब देना होगा। 8 अप्रैल 1929 को उन्होंने साथी क्रांतिकारी बटुकेश्वर दत्त के साथ मिलकर ब्रिटिश सरकार की अस्सेम्बली में बम विस्फोट कर दिया।

इस विस्फोट का मकसद लोगों तक आजादी की लड़ाई के लिए आवाज पहुंचाना था। इस विस्फोट के बाद भगत सिंह को जेल हो गई। यहां से भी उन्होंने आजादी के लिए लड़ाई छोड़ी नहीं बल्कि और तेज कर दी। अखबारों के जरिए भगत लगातार अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ लिखते रहे।
उन्होंने 23 वर्ष की छोटी-सी आयु में फ्रांस, आयरलैंड और रूस की क्रांति का विषद अध्ययन किया था।
हिन्दी, उर्दू, अंग्रेजी, संस्कृत, पंजाबी, बंगला और आयरिश भाषा के मर्मज्ञ चिंतक और विचारक भगतसिंह भारत में समाजवाद के पहले व्याख्याता थे। 23 मार्च 1931 को भगत सिंह तथा इनके दो साथियों सुखदेव व राजगुरु को फांसी दे दी गई। फांसी पर जाने से पहले वे 'बिस्मिल' की जीवनी पढ़ रहे थे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कम उम्र में ही दौलत शोहरत हासिल कर लेते हैं इन 4 राशियों के लोग, होते हैं मेहनतीबाघिन के हमले से वाइल्ड बोर ढेर, देखते रहे गए पर्यटक, देखें टाइगर के शिकार का लाइव वीडियोइन 4 राशि की लड़कियों का हर जगह रहता है दबदबा, हर किसी पर पड़ती हैं भारीआनंद महिंद्रा ने पूरा किया वादा, जुगाड़ जीप बनाने वाले शख्स को बदले में दी नई Mahindra BoleroFace Moles Astrology: चेहरे की इन जगहों पर तिल होना धनवान होने की मानी जाती है निशानीइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशदेश में धूम मचाने आ रही हैं Maruti की ये शानदार CNG कारें, हैचबैक से लेकर SUV जैसी गाड़ियां शामिल

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवानहीं चाहिए अवार्ड! इन्होंने ठुकरा दिया पद्म सम्मान, जानिए क्या है वजहजिनका नाम सुनते ही थर-थर कांपते थे आतंकी, जानें कौन थे शहीद ASI बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रबिहार में तिरंगा फहराने के दौरान पाइप में करंट से बच्चे की मौत, कई झुलसेरेलवे का बड़ा फैसला: NTPC और लेवल-1 परीक्षा पर रोक, रिजल्‍ट पर पुर्नविचार के लिए कमेटी गठितएक गांव ऐसा भी: यहां इंसानियत ही सबसे बड़ा धर्मUP Assembly Elections 2022 : सपा सांसद आजम खां जेल से ही करेंगे नामांकन, कोर्ट ने दी अनुमतिहाईवे के ओवरब्रिजों में सीरियल बम प्लांट, जानिए सीएम योगी के लिए लेटर में क्या लिखा, Video
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.