मोदी सरकार के हर गांव तक बिजली पहुंचाने के संकल्प में कितने खरे उतरे पीयूष गोयल

मोदी सरकार के हर गांव तक बिजली पहुंचाने के संकल्प में कितने खरे उतरे पीयूष गोयल

  • ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने किस तरह से बनाई रणनीति
  • लाल किले की प्रचीर से मोदी कर चुके हैं वादा
  • 2022 तक हर गांव तक बिजली की पहुंच हो

नई दिल्ली। 2014 में मोदी सरकार बनने के बाद ही गांव-गांव तक बिजली पहुंचाने का संकल्प लिया गया था। खुद पीएम नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से सरकार के इस प्रण को जाहिर किया है। वह अपने भाषणों में कहते रहे हैं कि जब हम 2022 में आजादी के 75 वां साल मना रहे होंगे, तब देश के कोने-कोने तक बिजली के तार पहुंच गए होंगे। कोई भी क्षेत्र बिजली से वंचित नहीं होगा। मोदी के इस प्रण को साकार करने में बिजली मंत्री रहे पीयूष गोयल का योगदान अहम रहा है। गोयल की योजनाएं और उनकी विशिष्ठ कार्यशैली ने इस मंत्रालय को खास बना दिया है। गोयल न सिर्फ बिजली पहुंचाने का काम तेजी से किया बल्कि उन्होंने बिजली की बचत पर भी काम किया है।

पेरू में 8.0 तीव्रता की भूंकप के जोरदार झटके, भारी नुकसान की संभावना

नासा की तस्वीरें

बीते साल अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने वर्ष 2012 से 2016 के बीच भारत में मानव बस्तियों की तस्वीरें जारी कर बदलाव का अहसास कराया था। नासा ने दो तस्वीरें जारी की थीं। दोनों ही तस्‍वीरें रात की हैं। इसमें 2016 में बिजली की रोशनी से पूरा देश चमकता हुआ दिखाई दे रहा है। नासा ने बताया कि इन तस्‍वीरों को देखकर यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि किस तरह से शहरों का विकास हुआ और इस दौरान मानव बस्तियों के बसने का पैटर्न क्‍या रहा। इसके बाद इन्हीं तस्वीरों को ट्वीट करके पीयूष गोयल ने लिखा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्णायक नेतृत्‍व में भारत ने निर्धारित समय से पहले ही हरेक गांव को रोशन करने का लक्ष्‍य हासिल करने के करीब है। इन तस्वीरों को सरकार की उपलब्धि माना गया। गोयल की ओर से जारी इन तस्वीरों को विकास का मॉडल माना गया। मोदी सरकार में अहममियत रखने वाले गोयल ने हमेशा से सरकार के कामकाज को बेहतर स्तर तक ले जाने में अपना अहम योगदान दिया है।

भारतीय सेना के अधिकारी लेफ्टिनेंट जनरल शैलेश संयुक्त राष्ट्र मिशन के कमांडर बने

एलईडी बल्ब का प्रचार किया

ऊर्जा संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए घरेलू लाइटिंग योजना के तहत करीब तीन करोड़ एलईडी बल्बों के वितरण का लक्ष्य रखा। बिजली मंत्री पीयूष गोयल बिजली बचत हो अभियान के साथ जोड़ा। उन्होंने सस्ते एलईडी बल्ब उपभोक्ताओं के घर तक पहुंचाए। गोयल ने बिजली बचत को लेकर विज्ञापन और जागरुकता अभियान भी चलाए। उनका मानना है कि अगर बिजली की बचत होगी तो यह अन्य क्षेत्रों तक पहुंचाई जा सकती है।

गोल्फ के बहाने ट्रंप और एबे के बीच सियासत की नई बिसात, उत्तर कोरिया के लिए बढ़ेंगी मुश्किलें?

18000 गांवों तक पहुंचाई बिजली

मोदी सरकार में पीयूष गोयल ने बिजली मंत्री रहते हुए प्रधानमंत्री मोदी के वादे को पूरा किया। देश के 18000 गांवों में बिजली पहुंचाने का दावा। पीयूष गोयल ने तय समय से काफी पहले इस लक्ष्य को पूरा कर दिखाया। उन्होंने बिजली क्षेत्र में लंबे समय से अटके सुधार 'उदय' (UDAY) को लागू किया और देश 24 घंटे बिजली आपूर्ति के अपने लक्ष्य के बेहद करीब पहुंच गया। बिजली संयंत्रों तक कोयले की उपलब्धता को बढ़ाता है। उन्होंने कोयला आयात को भी कम किया और बिजली उत्पादन भी बढ़ाया। उजाला (UJALA) योजना के तहत विश्व की सबसे बड़ी एलईडी बल्व वितरण योजना को सफलता के साथ लागू किया। नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में देश ने तेजी से तरक्की की। कोल ब्लाक की पूरी पारदर्शिता के साथ नीलामी करने का श्रेय भी उन्हें जाता है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned